नौसेना​ ने ​प्रवासी मजदूरों​ के लिए मुंबई, कारवार और गोवा में अस्पताल खोले

नौसेना​ ने ​प्रवासी मजदूरों​ के लिए मुंबई, कारवार और गोवा में अस्पताल खोले
navy-opens-hospitals-for-migrant-laborers-in-mumbai-karwar-and-goa

- कोविड संक्रमित आम नागरिकों को इलाज देने के लिए सिविल प्रशासन को मिलेगा सहयोग - नागरिक प्रशासन की मांग पर सिविल अस्पतालों को भी ऑक्सीजन मुहैया कराएगी नौसेना नई दिल्ली, 29 अप्रैल (हि.स.)। कोविड-19 की दूसरी लहर में चिकित्सा सुविधाओं और ऑक्सीजन बेडों की बढ़ती मांग को देखते हुए पश्चिमी नौसेना कमान (डब्ल्यूएनसी) ने प्रवासी मजदूरों के लिए ऑक्सीजन बेड की सुविधा वाले तीन अस्पताल शुरू किये हैं। गोवा में आईएनएचएस जीवनवती, कारवार में आईएनएचएस पतंजलि और मुंबई में शुरू किये गए आईएनएचएस संधानी सिविल प्रशासन को सहयोग देंगे ताकि कोविड से संक्रमित आम नागरिकों को इलाज मिल सके। नौसेना प्रवक्ता ने बताया कि मुंबई में नौसेना परिसर के अंदर प्रवासी मजदूरों के लिए बुनियादी सुविधाओं की स्थापना की गई है ताकि उन्हें अपने गृह जनपद या शहरों में जाने के लिए मजबूर न होना पड़े। नौसैनिक अधिकारी भी नागरिक प्रशासन के साथ नियमित रूप से संपर्क में हैं। जरूरत पड़ने पर कोविड से सम्बंधित किसी भी आकस्मिक सहायता देने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मुंबई में आईएनएचएस संधानी और आईएनएचएस अश्विनी पर शॉर्ट नोटिस पर बैटल फील्ड नर्सिंग सहायकों के रूप में प्रशिक्षित मेडिकल और गैर-चिकित्सा व्यक्तियों को भर्ती किया गया है। इसी तरह कारवार में नौसेना अधिकारियों ने लगभग 1500 प्रवासी मजदूरों के लिए आवश्यक वस्तुओं, राशन और बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं के लिए बड़े पैमाने पर इंतजाम किये हैं। आईएनएचएस पतंजलि में पिछले साल भी कोविड पॉजिटिव आम मरीजों का इलाज किया गया था। यह सशस्त्र बल पहला ऐसा अस्पताल है जहां कोविड के आम नागरिकों को इलाज देने के लिए पहले से ही तैयार किया गया है। चूंकि कोविड की स्थिति से निपटने में नागरिक प्रशासन को हर संभव सहायता देने के लिए कमांड को तैयार किया गया है, इसलिए परिचालन नौसैनिक इकाइयों को मिशन डोमेन में सुरक्षा और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए तैनात किया गया है। प्रवक्ता ने बताया कि गोवा में नौसेना की टीमों ने कोविड-19 की पहली लहर के दौरान सामुदायिक रसोई स्थापित की थी, इसलिए उन्हें इस बार भी आवश्यकता पड़ने पर मदद देने के लिए तैयार किया गया है। आईएनएचएस जीवनवती में आम नागरिकों के लिए ऑक्सीजन बेड लगाए गए हैं। इसके अलावा नौसेना ने नागरिक प्रशासन की मांग पर सिविल अस्पतालों को भी ऑक्सीजन मुहैया कराने की व्यवस्था की है। गुजरात की नौसेना ने सिविल प्रशासन को कोविड प्रभावित क्षेत्रों में मेडिकल स्टोर, उपकरण परिवहन, गरीबों के लिए सामुदायिक रसोई की स्थापना और अन्य आवश्यक तकनीकी मदद के लिए पेशकश की है। प्रवक्ता विवेक मधवाल का कहना है कि मौजूदा समय में सभी नौसेना अस्पताल नौसैन्य कर्मियों और उनके आश्रितों के साथ-साथ आम नागरिकों का स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइंस के अनुसार टीकाकरण कर रहे हैं। एक मई से 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग की नागरिक आबादी का टीकाकरण करने की तैयारियां की गईं हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत