दिल्ली में एक दर्जन से अधिक अस्पताल कर रहे ब्लैक फंगस का इलाज : सत्येंद्र जैन

 दिल्ली में एक दर्जन से अधिक अस्पताल कर रहे ब्लैक फंगस का इलाज : सत्येंद्र जैन
more-than-a-dozen-hospitals-in-delhi-are-treating-black-fungus-satyendra-jain

नई दिल्ली, 22 मई (आईएएनएस)। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा कि म्यूकोर्मिकोसिस (ब्लैक फंगस) संक्रमण से पीड़ित 200 से अधिक कोविड रोगियों का इलाज राष्ट्रीय राजधानी के एक दर्जन से अधिक अस्पतालों में किया जा रहा है। दिल्ली में कोरोना के साथ ब्लैक फंगस भी अब डराने लगा है। तेजी से इस संक्रमण के मामले बढ़ रहे है, जिसे लेकर दिल्ली सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी है। इस बीच, स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने शनिवार को ब्लैक फंगस को लेकर जानकारी दी है। जैन ने लोगों को सावधान रहने और खुद से ही दवा नहीं लेने को लेकर आगाह किया। उन्होंने खासकर स्टेरॉयड के बारे में कहा कि इसे डॉक्टर की सलाह के बगैर न लें। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि चूंकि दिल्ली में बड़ी संख्या में लोग पॉजिटिव पाए गए हैं और उपचार के दौरान उनमें से कई को स्टेरॉयड दिए गए हैं, इसलिए लोगों को बहुत सावधान रहने की जरूरत है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, पिछले साल ब्लैक फंगस के 30 से 50 मामले सामने आए थे, लेकिन इस साल संख्या कई गुना बढ़ गई है। यह इस बार कोविड के बाद के मामलों में बहुत अधिक पाया जा रहा है। हमें सावधान रहना होगा, क्योंकि दिल्ली में बड़ी संख्या में लोग पॉजिटिव पाए गए हैं और उनमें से कई स्टेरॉयड पर हैं और कई मधुमेह रोगी हैं। ऐसे में अगर शर्करा का स्तर बनाए नहीं रखा जाता है, तो इसका असर बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि जो लोग मधुमेह से पीड़ित हैं और स्टेरॉयड लेते हैं, उनका शर्करा स्तर बढ़ जाता है। इन्सुलिन इंजेक्शन के माध्यम से इस पर निगरानी रखनी है और नियंत्रण में लाना है, इसलिए लोगों को यह भी करना चाहिए। म्यूकोर्मिकोसिस या ब्लैक फंगस उन लोगों में अधिक आम तौर पर पाया जा रहा है, जिनकी प्रतिरक्षा कोविड, मधुमेह, गुर्दे की बीमारी, यकृत या हृदय संबंधी विकारों, उम्र से संबंधित दिक्कतों आदि के कारण गिर गई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, एम्स, सर गंगा राम अस्पताल, मूलचंद और आकाश अस्पताल समेत दिल्ली के कई अस्पतालों में इस संक्रमण से पीड़ित करीब एक दर्जन मरीजों की मौत हो चुकी है। --आईएएनएस एकेके/एएनएम