कोविशील्ड से ज्यादा एंटीबॉडी, शोध पर भारत बायोटेक ने उठाए सवाल

कोविशील्ड से ज्यादा एंटीबॉडी, शोध पर भारत बायोटेक ने उठाए सवाल
more-antibodies-than-covishield-bharat-biotech-raised-questions-on-research

-भारत बायोटेक ने कहा कि शोध में है कई कमियां नई दिल्ली, 09 जून (हि.स.)। कोवैक्सीन की तुलना में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड वैक्सीन ज्यादा एंटीबॉडी बनाती है, इस शोध पर भारत-बायोटेक ने सवाल उठाए हैं। भारत बायोटेक ने कहा है कि इस शोध में कई कमियां हैं। इस शोध का पीयर-रिव्यू नहीं हुआ है और न ही सांख्यिकी-वैज्ञानिक पैमाने पर सही बैठती है। भारत बायोटेक ने कहा कि यह अध्ययन सीटीआरआई की वेबसाइट पर रजिस्टर नहीं है और ना ही सीडीएससीओ और एसईसी द्वारा मान्यता मिली है। फिर कैसे कोई इस तरह के शोध को प्रकाशित कर सकता है। ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का भारत में ट्रायल सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने किया है और वो इसे कोविशील्ड के नाम से बेच रहा है। वहीं, कोवैक्सीन को आईसीएमआर और भारत-बायोटेक ने मिलकर बनाया है। कोवैक्सीन डेटा जुलाई में होगा सार्वजनिक भारत बायोटेक ने बताया कि फेज 3 का ट्रायल डेटा पहले सीडीएससीओ के पास भेजा जाएगा। डेटा के जर्नल में प्रकाशित होने के बाद कोवैक्सीन के फेज 3 ट्रायल का पूरा डेटा जुलाई महीने तक सार्वजनिक कर दिया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/विजयालक्ष्मी