पंजाब को छोड़कर अन्य 4 चुनावी राज्यों में मोदी सरकार की साख कायम

 पंजाब को छोड़कर अन्य 4 चुनावी राज्यों में मोदी सरकार की साख कायम
modi-government39s-credibility-maintained-in-4-other-electoral-states-except-punjab

नई दिल्ली, 3 सितम्बर (आईएएनएस)। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले केंद्र सरकार के प्रदर्शन और प्रधानमंत्री की साख (गुडविल) को लेकर एक बड़ी तस्वीर सामने आई है। इन पांच राज्यों में से पंजाब को छोड़कर अन्य सभी राज्यों में केंद्र सरकार और पीएम मोदी की साख अभी भी कायम है। जिन पांच राज्यों में चुनाव होने जा रहे हैं, उनमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर शामिल हैं। पंजाब को छोड़कर सभी राज्यों में भाजपा का शासन है। एबीपी-सीवोटर-आईएएनएस बैटल फॉर द स्टेट्स - वेव 1 के दौरान सामने आए आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। इस सर्वे के अनुसार, केंद्र सरकार की गुडविल पंजाब को छोड़कर बाकी राज्यों में अभी भी कायम है। हालांकि पंजाब में गुडविल सही नहीं पाई गई है, जहां अधिकतर लोग कृषि कानूनों के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ हैं। 403 सीटों के साथ सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश से केंद्र सरकार और विशेष रूप से प्रधानमंत्री और भाजपा के लिए अच्छी खबर है, क्योंकि यहां सर्वे में शामिल लोगों की प्रतिक्रिया से पता चला है कि वह केंद्र सरकार के कामकाज से संतुष्ट हैं। भाजपा के लिए उच्च संतुष्टि रेटिंग वाली अच्छी खबर है, क्योंकि राज्य में 37.3 प्रतिशत लोग केंद्र सरकार के काम के साथ और 42.8 प्रतिशत प्रधानमंत्री की कार्यशैली से बहुत संतुष्ट हैं। जबकि 30.8 केंद्र सरकार से और 28.8 प्रधानमंत्री से संतुष्ट हैं और केवल 31 प्रतिशत और 27.6 प्रतिशत क्रमश: संतुष्ट नहीं हैं। उत्तराखंड में, जो कि यूपी का पड़ोसी राज्य है और यहां हर पांच साल में सरकार बदलने का इतिहास है, केंद्र सरकार के प्रति साख बनी हुई है। यहां 38.5 प्रतिशत लोग बहुत संतुष्ट हैं, 21.2 प्रतिशत कुछ हद तक संतुष्ट हैं और केवल 37.5 प्रतिशत केंद्र के कामकाज से संतुष्ट नहीं हैं। जबकि पहाड़ी राज्य में प्रधानमंत्री की लोकप्रियता बनी हुई है और यहां 46.1 प्रतिशत लोग उनकी कार्यशैली से बहुत ज्यादा संतुष्ट हैं, 13.3 प्रतिशत कुछ हद तक संतुष्ट हैं, जबकि 39.6 प्रतिशत लोग बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं हैं। सर्वेक्षण के अनुसार, गोवा में 36.3 प्रतिशत लोग केंद्र सरकार के काम से बहुत संतुष्ट हैं और 49.7 प्रतिशत लोग प्रधानमंत्री से खुश हैं, जबकि राज्य में केवल 25 प्रतिशत लोग नाखुश हैं। मणिपुर में 26 प्रतिशत उत्तरदाता बहुत अधिक संतुष्ट हैं, 40.6 प्रतिशत कुछ हद तक संतुष्ट हैं और 33.4 प्रतिशत लोग केंद्र सरकार के काम से असंतुष्ट हैं, लेकिन प्रधानमंत्री की व्यक्तिगत लोकप्रियता अभी भी कायम है, क्योंकि 34.5 प्रतिशत बहुत अधिक संतुष्ट हैं 28.7 प्रतिशत कुछ हद तक संतुष्ट हैं जबकि केवल 36.8 प्रतिशत संतुष्ट नहीं हैं। लेकिन पंजाब में 66.8 प्रतिशत लोग केंद्र सरकार के काम से असंतुष्ट हैं और 59.1 प्रतिशत लोग प्रधानमंत्री से संतुष्ट नहीं हैं। यहां के लोगों की नजरों में केंद्र सरकार का कुल प्रदर्शन 34.1 प्रतिशत है और केवल पंजाब में ही माइनस रेटिंग माइनस 36.2 प्रतिशत देखी गई है। प्रधानमंत्री से बहुत अधिक संतुष्टि के मामले में कुल उत्तरदाताओं का प्रतिशत 40 हैं, जबकि 28.1 कुछ हद तक संतुष्ट हैं और 29.6 प्रतिशत असंतुष्ट हैं। केवल पंजाब में माइनस रेटिंग 19.6 प्रतिशत दर्ज की गई है। इन पांच राज्यों में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं और कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) तीन राज्यों गोवा उत्तराखंड और मणिपुर में सीधे मुकाबले में हैं, जबकि उत्तर प्रदेश में भाजपा की चुनावी लड़ाई मुख्य रूप से समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ है। आंतरिक विवादों में घिरी सत्तारूढ़ कांग्रेस का पंजाब में अकाली दल और आम आदमी पार्टी (आप) से मुकाबला है और चुनाव से पहले कांग्रेस को पार्टी और संगठन में आंतरिक कलह को कम करना होगा। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.