गहलोत खेमे के विधायक जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट किए गए, 15 दिन वहीं रहेंगे; मुख्यमंत्री ने भाजपा से पूछा- कांग्रेस में बसपा के 6 एमएलए का मर्जर गलत कैसे?
गहलोत खेमे के विधायक जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट किए गए, 15 दिन वहीं रहेंगे; मुख्यमंत्री ने भाजपा से पूछा- कांग्रेस में बसपा के 6 एमएलए का मर्जर गलत कैसे?
देश

गहलोत खेमे के विधायक जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट किए गए, 15 दिन वहीं रहेंगे; मुख्यमंत्री ने भाजपा से पूछा- कांग्रेस में बसपा के 6 एमएलए का मर्जर गलत कैसे?

news

राजस्थान के सियासी घमासान का शुक्रवार को 22वां दिन है। इस बीच, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खेमे के सभी विधायक जयपुर से बाय प्लेन जैसलमेर भेज दिए गए हैं। सभी विधायक पिछले 18 दिन यानी 13 जुलाई से जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में ठहरे थे। गहलोत ने 102 विधायकों के समर्थन का दावा किया है। जैसलमेर में विधायकों को किसी रिसॉर्ट में रुकवाया गया है। विधानसभा सत्र शुरू होने तक एमएलए वहीं रहेंगे। राज्यपाल कलराज मिश्र ने 14 अगस्त से सत्र की मंजूरी दी है। फोटो जयपुर एयरपोर्ट का है। पहली फ्लाइट से 53 विधायक जैसलमेर रवाना हुए। बसपा विधायकों के मामले में गहलोत का भाजपा से सवाल BJP ने TDP के 4 MPs को राज्यसभा के अंदर रातों रात मर्जर करवा दिया, वो मर्जर तो सही है और राजस्थान में 6 विधायक मर्जर कर गए कांग्रेस में वो मर्जर गलत है, तो फिर BJP का चाल-चरित्र-चेहरा कहां गया, मैं पूछना चाहता हूं? राज्यसभा में मर्जर हो वो सही है और यहां मर्जर हो वो गलत है? — Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) July 31, 2020 उधर, भाजपा ने सरकार पर हमला किया है। राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्वीट कर कहा कि अगर कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं है तो विधायकों को कैद क्यों किया जा रहा है? सब एक हैं,कोई खतरा नहीं है,लोकतंत्र है,सब ठीक है तो बाड़ा क्यूँ,और बिकाऊ कौन है?उनके नाम सार्वजनिक करो;बाड़े में भी अविश्वास!!जयपुर से जैसलमेर के बाद आगे तो पाकिस्तान है;हकीकत से कब तक दूर भागेंगे जादूगर @ashokgehlot51जी@BJP4Rajasthan @BJP4India #RajasthanPoliticalCrisis — Satish Poonia (@DrSatishPoonia) July 31, 2020 अपडेट्स… मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि राजस्थान हमारा घर है। हम कहीं भी आ-जा सकते हैं। वहीं, विधायकों ने कहा कि हम राजस्थान के लोग राजस्थान में ही जा रहे हैं। पाकिस्तान की बात कहां से आ गई। पाकिस्तान को बीच में घसीटना भाजपा के लोगों का काम है। विधायक राकेश मीणा ने कहा कि राजस्थान सरकार को कोई खतरा नहीं है। अमित शाह कितना भी जोर लगा लें। किसी हालत में सरकार गिरने वाली नहीं है। हॉर्स ट्रेडिंग के डर से विधायक शिफ्ट किए गए सचिन पायलट समेत 19 विधायकों के बागी होने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने विधायकों को 13 जुलाई को जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में शिफ्ट कर दिया था। मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री और सभी विधायक अपने काम होटल से ही कर रहे थे। सूत्रों की मानें तो खरीद-फरोख्त से बचने के लिए विधायकों को जैसलमेर शिफ्ट किया गया है। जयपुर में विधायकों का अपने परिवार के सदस्यों से मिलना-जुलना जारी था। ऐसे में आशंका थी कि इन्हें हॉर्स ट्रेडिंग का जरिया बनाया जा सकता है। उधर, होटल के मालिक भी लगातार ईडी के निशाने पर हैं। फेयरमॉन्ट होटल में ईडी ने तलाशी भी ली थी। विधायकों ने भी होटल बदलने की मांग उठाई थी। गहलोत ने कहा- अब विधायकों की कीमत अनलिमिटेड हो गई मुख्यमंत्री गहलोत ने बागियों पर हमला करते गुरुवार को कहा कि जो लोग गए हैं, पता नहीं उनमें से किस-किस ने पहली किश्त ले ली है? कइयों ने पहली किश्त नहीं ली है, उन्हें वापस आना चाहिए। जिस रात से विधानसभा सत्र की तारीख तय हुई, उसी रात से विधायकों के पास फोन आने लगे हैं, हॉर्स ट्रेडिंग के लिए विधायकों के रेट भी बढ़ गए हैं। पहले 10, 15, 25 करोड़ की कीमत थी, अब अनलिमिटेड है। अमित शाह को सरकार गिराने के इरादे छोड़ देने चाहिए।-newsindialive.in