कोरोना से बचाव के लिए सभी जिलों में हो अधिक से अधिक जांच : नितीश
कोरोना से बचाव के लिए सभी जिलों में हो अधिक से अधिक जांच : नितीश
देश

कोरोना से बचाव के लिए सभी जिलों में हो अधिक से अधिक जांच : नितीश

news

कोरोना से बचाव के लिए सभी जिलों में हो अधिक से अधिक जांच : नितीश पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना संक्रमितों की पहचान कर उनके बचाव के लिए सभी जिलों में अधिक से अधिक जांच कराने का निर्देश दिया। श्री कुमार ने शुक्रवार को एक, अणे मार्ग स्थित नेक संवाद से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 से संबंधित विस्तृत समीक्षा बैठक की । इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कोरोना संक्रमितों की पहचान कर उनके बचाव के लिए सभी जिलों में अधिक से अधिक जांच कराने का निर्देश देते हुए कहा कि सभी इच्छुक लोगों की जांच कराई जाय। एंटीजन टेस्ट के उपकरण की आपूर्ति में कमी न हो। मुख्यमंत्री ने पटना के प्रमंडलीय आयुक्त को निर्देश देते हुए कहा कि रोहतास, नालंदा और पटना जिले में जांच की संख्या और अधिक बढ़ायें। वर्द्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान, पावापुरी, नालंदा में सारी सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्देश दिया ताकि मरीजों का समुचित इलाज हो सके। उन्होंने गया में मरीजों को कॉल कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेना, उन्हें होम आइसोलेशन के लिए दवा के किट उपलब्ध कराना, केयर टेकर के लिए भी दवा की व्यवस्था, मरीजों को क्या करना है और क्या नहीं करना है, प्रतिदिन कॉल करके फीडबैक लेना जैसी पहल की प्रशंसा करते हुये कहा कि यह व्यवस्था पूरे राज्य में लागू होनी चाहिये। डाक विभाग का कमाल : फतेहगढ़ से मेरठ तक पहुंचने में पत्र को लग गए 31 साल श्री कुमार ने कहा कि बाढ़ प्रभावित जिलों में जांच पर विशेष ध्यान दें। संभावित बाढ़ प्रभावित जिलों के लिए भी विशेष तैयारी रखें। आपदा राहत केंद्रों में एंटीजन जांच अवश्य करायी जाय। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में वेंटिलेटर युक्त गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) की समुचित एवं पर्याप्त व्यवस्था रखी जाय। कोविड हेल्थ सेंटर में ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाय। सभी कोविड अस्पतालों में चिकित्सक एवं पारा मेडिकल स्टाफ की प्रोटोकॉल के अनुसार नियमित विजिट हो, यह सुनिश्चित किया जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले से जांच और इलाज को बेहतर किया गया है। जिन लोगों को कोरोना संक्रमण की थोड़ी भी आशंका है, उन्हें चिकित्सकीय परामर्श जरुर उपलब्ध करायें ताकि उनमें आत्मविश्वास का भाव आये। लोगों को सजग एवं सचेत करते रहें, मास्क का प्रयोग और सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए लोगों को जागरूक करते रहें। व्यापक प्रचार-प्रसार के माध्यम से कोरोना संक्रमण के इलाज से संबंधित नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र की जानकारी दें। सभी जिलों में एम्बुलेंस की पर्याप्त व्यवस्था रखें ताकि मरीजों को इलाज के लिए कोविड सेंटर तक पहुंचाया जा सके। श्री कुमार ने पटना के नालंदा चिकित्सा महाविद्यालय (एनएमसीएच), वर्द्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान, दरभंगा के डेडीकेटेड कोविड अस्पताल, गया के अनुग्रह नारायण मगध चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल (एएनएमसीएच) इनडोर स्टेडियम, गया में बनाये गये 50 बेड के कोविड अस्पताल, जीएमसीएच, बेतिया का ऑनलाइन अवलोकन कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। श्री कुमार को समीक्षा के दौरान स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि राज्य में कल 22742 सैम्पल की जांच की गयी है और प्रतिदिन जांच की संख्या बढ़ायी जा रही है। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर किये जा रहे उपायों एवं ऑक्सीजन सिलेंडर, जांच किट, वेंटिलेटर, आईसीयू बेड की उपलब्धता, पाइपलाइन के माध्यम से बेड तक ऑक्सीजन की आपूर्ति की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कल मोबाइल ऐप लांच किया जाएगा, जिसके माध्यम से जांच पंजीकरण, नजदीकी कोविड सेंटर, जांच रिपोर्ट, होम आइसोलेशन एवं अन्य स्वास्थ्य से संबंधित अन्य प्रश्नों की जानकारी मिल सकेगी। चिराग पासवान ने EC को लिखा पत्र, बोले- बिहार कोरोना और बाढ़ से प्रभावित, अभी न कराएं चुनाव समीक्षा के दौरान पटना, गया, नालंदा, भागलपुर, मुजफ्फरपुर, पश्चिम चम्पारण एवं दरभंगा जिले के जिलाधिकारियों ने जिलों में तैयार किये कोविड अस्पताल, जांच की स्थिति, आइसोलेशन केंद्र पर प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी द्वारा मरीजों की भर्ती संबंधी परेशानियों को दूर करना, अस्पताल में रोस्टर बनाकर चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों की उपलब्धता, नियंत्रण कक्ष के माध्यम से मरीजों से स्वास्थ्य संबंधी पूछताछ आदि के संबंध में जानकारी दी। बैठक में मुख्य सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह उपस्थित थे जबकि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, सभी प्रमंडलीय आयुक्त, सभी जिलाधिकारी, सभी रेंज के पुलिस महानिरीक्षक एवं उप महानिरीक्षक, वरीय पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक, चिकित्सा महाविद्यालयों के अधीक्षक, प्राचार्य एवं अन्य पदाधिकारी जुड़े हुए थे। Thank You, Like our Facebook Page - @24GhanteUpdate 24 Ghante Online | Latest Hindi News-24ghanteonline.com