राष्ट्रीय औसत से कम हुई मध्य प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट, 20.7 पर आई

राष्ट्रीय औसत से कम हुई मध्य प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट, 20.7 पर आई
madhya-pradesh39s-positivity-rate-falls-below-the-national-average-of-207

भोपाल, 04 मई (हि.स.)। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस का एक तरफ कहर जारी है तो दूसरी तरफ सरकार के प्रयास भी अब रंग ला रहे हैं। राज्य में तेजी से संक्रमितों के ठीक होने का प्रतिशत बढ़ता जा रहा है, इससे जुड़ी अब अच्छी खबर ये आई है कि प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट चार मई को राष्ट्रीय औसत से कम हो गई है। राष्ट्रीय औसत 21.6 प्रतिशत की तुलना में प्रदेश की औसत 20.7 प्रतिशत हो गई है। इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार स्वयं से जानकारी दी। वे कोरोना कोर ग्रुप की बैठक को संबोधित कर रहे थे। सीएम शिवराज ने कहा है कि गरीब के उपचार की व्यवस्था शासन की जिम्मेदारी है। गरीब व्यक्तियों के लिए नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था के लिए चिकित्सालय चिन्हित किए गए हैं। साथ ही गरीब के लिए नि:शुल्क उपचार की व्यवस्थाओं को अधिक विस्तारित करने के संबंध में प्रयास किए जाए। उन्होंने कहा कि सी.टी. स्कैन की निर्धारित दरों को कम करने के तरीकों पर भी विचार किया जाए। दर ऐसी हो जो आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग द्वारा भी वहन की जा सके। निजी अस्पतालों में कोविड रोगियों का निर्धारित दर पर हो उपचार मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब व्यक्तियों के उपचार के लिए आयुष्मान कार्ड के साथ ही अन्य नि:शुल्क उपचार की वैकल्पिक व्यवस्थाएं भी की जाएँ। उन्होंने कहा कि कोविड रोगियों का निजी चिकित्सालयों में उपचार शासन द्वारा निर्धारित शुल्क पर हो। इस व्यवस्था को और अधिक मजबूत बनाने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि किसी भी चिकित्सालय को मनमानी दरों पर उपचार की छूट नहीं दी जाएगी। ऐसा करने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने एम्बुलेंस की दरें प्रति किलो मीटर के आधार पर निर्धारित करने के निर्देश दिए। इसी तरह सी.टी. स्कैन करवाने के परामर्श के लिए भी निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार व्यवस्थाएँ कराने की जरूरत बताई। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रभारी मंत्रियों को निर्देशित किया है कि ग्रामीण अंचल के क्वारंटाइन सेंटर और कोविड केयर सेंटरों का निरीक्षण करें और वहाँ की व्यवस्थाओं को प्रभावी बनाए। उन्होंने कहा कि क्वारंटाइन और कोविड केयर सेंटरों की व्यवस्थाओं के संबंध में जन-जागरण भी किया जाए, ताकि संक्रमित व्यक्ति को वहाँ पर रख कर संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके। उन्होंने बताया कि वे स्वयं भी आकस्मिक रूप से ग्रामीण अंचल के कोविड केयर और क्वारंटाइन सेंटर का निरीक्षण करेंगे। वहीं, इस दौरान श्री चौहान ने बीना रिफायनरी में बनने वाले अस्पताल के निर्माण कार्य की समीक्षा की। बताया गया कि मई माह के मध्य तक 200 ऑक्सीजन बिस्तर का अस्पताल प्रारम्भ हो जाएगा। साथ ही उन्होंने मोहासा-बाबई में निर्माणाधीन ऑक्सीजन प्लान्ट की गति को भी तीव्र करने के निर्देश दिए। साथ ही इंदौर में ई.एस.आई. के चिकित्सालय में शीघ्र ही कोविड केयर सेंटर शुरु हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/डॉ. मयंक चतुर्वेदी