अफगानिस्तान में पाकिस्तान के हस्तक्षेप से नाराज स्थानीय नागरिक

 अफगानिस्तान में पाकिस्तान के हस्तक्षेप से नाराज स्थानीय नागरिक
local-citizens-angry-over-pakistan39s-intervention-in-afghanistan

काबुल, 7 सितम्बर (आईएएनएस)। अफगानिस्तान में तेजी से बदलते परि²श्य में, जहां सरकार गठन को लेकर तालिबान के वरिष्ठ नेताओं के बीच मतभेद बना हुआ है और सुरक्षा की स्थिति नाजुक बनी हुई है, आईएसआई प्रमुख की यात्रा और पंजशीर में चल रहे संघर्ष में तालिबान को पाकिस्तान के मौन समर्थन से आम अफगान लोगों को युद्धग्रस्त राष्ट्र में पाकिस्तान की दखल देने वाली भूमिका के बारे में एहसास हुआ है। पाकिस्तान के विरोध में, लोगों के कुछ समूहों ने 6 सितंबर की रात को काबुल में और मंगलवार को दिन में बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरकर, अफगानिस्तान में पाकिस्तान के हस्तक्षेप और घुसपैठ की भूमिका के खिलाफ नारे लगाए। प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद और पंजशीर जिंदाबाद जैसे नारे लगाए। जमीन पर तालिबान बलों की प्रतिक्रिया शुरुआत में कुछ हद तक सुरक्षित माहौल में देखने को मिली। हालांकि, एक समय के बाद, जब भीड़ बढ़ने लगी और उत्तेजित हो गई, तो तालिबान ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए हवा में कई राउंड फायरिंग की। पत्रकारों को परेशान किए जाने और उनके कैमरे छीन लिए जाने की खबरें भी सामने आई हैं। इस बात के भी संकेत हैं कि तालिबान के भीतर कुछ वर्ग इस तरह के विरोध प्रदर्शनों को जारी रखने की अनुमति देने के इच्छुक हैं, ताकि पाकिस्तान को यह संकेत दिया जा सके कि स्थानीय लोग अफगानिस्तान में पाकिस्तान के हस्तक्षेप से कैसे घृणा करते हैं। उनके विचार में यह संभवत: पाकिस्तानी प्रतिष्ठान को एक अप्रत्यक्ष संदेश देगा कि भविष्य में अफगानिस्तान में पाकिस्तान की किसी भी भूमिका से जनता में भारी आक्रोश पैदा हो सकता है। इससे पहले, ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सईद खतीबजादेह ने भी तालिबान और पंजशीर बलों के बीच झड़पों में किसी भी बाहरी भूमिका के बारे में आपत्ति व्यक्त की थी, जो पंजशीर में ऑपरेशन में तालिबान को पाकिस्तान के सैन्य समर्थन का संकेत दे रहे थे। एक सार्वभौमिक समझ है कि अफगानिस्तान में हितधारकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश का उपयोग किसी तीसरे देश के खिलाफ कोई गतिविधि करने के लिए नहीं किया जाए। इसी तरह, एक अच्छे राष्ट्र की अपेक्षा करने वाले अफगानिस्तान में राजनीतिक या सैन्य रूप से कोई बाहरी हस्तक्षेप नहीं चाहते हैं। पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान की गतिविधियों ने स्पष्ट रूप से संकेत दिया है कि वे राजनीतिक और सैन्य दोनों रूप से अफगानिस्तान में सक्रिय रहना जारी रखेंगे। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.