लठामार होली नंदगांव : हुरियारिनों की प्रेम पगी लाठियां खाकर झूमे हुरियारे

लठामार होली नंदगांव : हुरियारिनों की प्रेम पगी लाठियां खाकर झूमे हुरियारे
lathmaar-holi-nandgaon-hurriyars-swagger-after-eating-lathi-loving-sticks

- फगुवा मांगने आए हुरियारों के स्वागत में नंदगांव की हुरियारिनों ने बरसाई प्रेमपगी लाठियां मथुरा, 24 मार्च (हि.स.)। मंगलवार को रिमझिम बरसात के मध्य हुई बरसाना की लठामार होली के बाद बुधवार शाम नंदगांव में लठामार होली में हुरियारिनों की प्रेम पगी लाठियां खाकर हुरियारों ने जमकर होली खेली। पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष में देखने वालों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई। जिसको लेकर जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन ने खासा इंतजाम कर रखा था। स्वयं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा.गौरव ग्रोवर लठामार होली में व्यवस्था कमान संभाले हुए थे। रंग बरसे होरी रे रसिया बरजोरि रे रसिया आज ब्रज में होरी रे रसिया के स्वरों के बीच बुधवार को नंदगांव की गली में हुरियारे और हुरियारिनों के बीच द्वापर युगीन लठामार होली का अद्भुत नजारा देखने को मिला। द्वापर युग से चली आ रही परम्परागत लठामार होली खेलने के बाद बरसाना के ग्वाल सखी भाव से अपनी होली का फगुवा मांगने के लिए नन्दभवन पहुंचे। यहां हुरियारों की पहले आवभगत की गई, इसके बाद नंदभवन में पूजन कर हुरियारे रंगीली चौक पहुंचे। यहां पर हुरियारे और हुरियारिनों के बीच हास-परिहास हुआ और फिर हुरियारिनों ने प्रेम पगी लाठियां हुरियारों पर बरसाईं तो वह ढाल से उसका बचाव करते रहे। ये आनंदभरा मोहक नजारा देख श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो गए। जगह-जगह श्रद्धालुओं ने नृत्य किया। बरसाने से आए हर किसी के हाथ में अबीर गुलाल की पोटली और हाथों में छोटी पिचकारियां थीं। इससे पहले बरसाने से झंडा लेकर पहुंचे हुरियारे मंदिर नंदलाल का आशीर्वाद लेने मंदिर में प्रवेश कर गए। गुलाल की ऐसी वर्षा हुई कि आसमान सतरंगी हो गया। होली के विशेष रूप से टेसू और केशर से तैयार रंगों का इस्तेमाल किया गया। मंदिर परिसर में श्रद्धालु और हुरियारे श्रद्धा के रंग में रंग गए। हजारों श्रद्धालु प्रफुल्लित हो उठे। नंदगांव की हुरियारिनों ने बरसाने के हुरियारों को प्रेम पगी लाठियों से परास्त कर दिया। विश्व प्रसिद्ध लठामार होली को लेकर नंदगांव में आस्था का ऐसा ज्वार उमड़ा कि आस्थावान रंगों में सराबोर हो गए। हंसी ठिठोली के बीच उड़ते रंगों और प्रेम की बरसतीं लाठियों के बीच बरसाने को हुरियारे अपनी ढालों की ओट से स्वयं को बचाते नजर आये। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/सुनीत

अन्य खबरें

No stories found.