लखीमपुर हिंसा : वरुण गांधी ने लिखा सीएम योगी को पत्र, सीबीआई जांच और एक-एक करोड़ मुआवजे की मांग की

 लखीमपुर हिंसा : वरुण गांधी ने लिखा सीएम योगी को पत्र, सीबीआई जांच और एक-एक करोड़ मुआवजे की मांग की
lakhimpur-violence-varun-gandhi-wrote-a-letter-to-cm-yogi-demanding-cbi-inquiry-and-one-crore-compensation

नई दिल्ली, 4 अक्टूबर (आईएएनएस)। भाजपा सांसद वरुण गांधी ने लखीमपुर हिंसा के संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर उच्चतम न्यायालय की निगरानी में सीबीआई जांच कराने की मांग की है। वरुण गांधी ने इसके साथ ही पीड़ित परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने की भी मांग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे पत्र में वरुण गांधी ने मांग की है कि इस घटना में संलिप्त तमाम संदिग्धों की पहचान कर उन सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मुकदमा कायम कर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। वरुण गांधी ने मांग की है कि समयबद्ध सीमा में सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इस पूरे मामले की सीबीआई जांच करवाकर दोषियों को सजा दिलवाना ज्यादा सही रहेगा। आईएएनएस से बातचीत करते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि अगर किसान कुछ मुद्दों को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं तो हमें उनके साथ संयम और धैर्य के साथ बर्ताव करना चाहिए। उन्होंने आगे जोड़ा की किसानों के साथ हिंसक प्रतिरोध नहीं करना चाहिए। वरुण गांधी ने इसे अन्नदाताओं की हत्या बताते हुए आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर कठोर कार्रवाई करने की मांग की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे पत्र में लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों को शहीद बताते हुए वरुण ने लिखा, इस तरह की हत्या सभ्य समाज में अक्षम्य है। इस ह्रदय विदारक घटना से सारे देश के नागरिकों में पीड़ा और रोष है। दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग करते हुए वरुण ने सीएम योगी से यह भी सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि भविष्य में किसानों के साथ इस प्रकार का कोई भी अन्याय या किसी अन्य प्रकार की ज्यादती न हो। गौरतलब है कि इस घटना की वजह से विरोधियों के निशाने पर आए स्थानीय सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ने भी अपने ड्राइवर और भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवई करने की मांग की है। उन्होंने इस पूरे प्रकरण में साजिश की जांच करने की भी मांग की है। --आईएएनएस एसटीपी/आरएचए

अन्य खबरें

No stories found.