झारखंड: आईएएस अधिकारी की मदद से नक्सल प्रभावित लातेहार के छात्र अब बनेंगे प्रशासनिक अधिकारी

 झारखंड: आईएएस अधिकारी की मदद से नक्सल प्रभावित लातेहार के छात्र अब बनेंगे प्रशासनिक अधिकारी
jharkhand-with-the-help-of-ias-officer-students-of-naxal-affected-latehar-will-now-become-administrative-officers

लातेहार (झारखंड), 7 सितम्बर (आईएएनएस)। झारखंड के नक्सल प्रभावित लातेहार जिले के छात्र अब भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी बनने का सपना देखने लगे हैं। कुछ वर्षों पहले तक लातेहार की पहचान अति नक्सली प्रभवित जिले के तौर पर होती थी, लेकिन आज मनिका प्रखंड के रहने वाले जितेन्द्र राम आईएएस अधिकारी बनने का सपना देख रहे हैं। लातेहार जिले में केवल एकमात्र जितेंद्र ही ऐसे छात्र नहीं हैं जो आईएएस बनने का सपना देख रहे हैं। लातेहार की रहने वाली साक्षी भी अब आईपीएस अधिकारी बन महिलाओं को उनका अधिकार देने के सपने बुन रही है। जिला प्रशासन भी इन छात्र-छात्राओ के सपने को पंख लगाने के लिए मुफ्त में कोचिंग उपलब्ध करवा रही है। जिला प्रशासन द्वारा लातेहार के चंदनडीह में इंटीग्रेटेड कोचिंग प्रोग्राम (नि:शुल्क क्लास) की शुरूआत की है। यहां छात्रों और छात्राओं को मुफ्त में आईएएएस, आईपीएस, रेलवे, झारखंड लोक सेवा आयोग जैसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करा रही है। लातेहार के जिलाधिकारी अबू इमरान ने आईएएनएस के साथ बातचीत में कहा, मैं यहां अनुमंडल पदाधिकारी के पद पर भी रह चुका हूं, इस कारण लातेहार को मै अच्छी तरह समझता हूं। जब मैं यहां जिलाधिकारी (उपायुक्त) के पद पर पदस्थापित हुआ तो यहां योग्य छात्रों को अवसर देने के लिए प्रयास प्रारंभ किए। उन्होंने कहा कि यहां प्रतिभा की कोई कमी नहीं है केवल अवसर अैर मार्गदर्शन की देने की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि इंटीग्रेटेड कोचिंग प्रोग्राम के लिए बड़ी संख्या में छात्र-छात्राओं ने अपनी रुचि दिखाई है, जो यह दशार्ता है कि लातेहार जिला के युवा प्रतियोगिता परीक्षा के लिए काफी रुचि रखते हैं। उपायुक्त ने बताया, कोचिंग के टयूूटर का क्वालिफिकेशन, क्वालिटी ऑफ एजुकेशन एवं कोचिंग के सक्सेस रेट के आधार पर 2 कोचिंग संस्थानों का चयन किया गया है, जो यहां के छात्रों को पढाएंगे। सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी कैसे करनी है इस बारे में कोचिंग संस्थान के अनुभवी शिक्षकों के द्वारा मार्गदर्शन दिया जाएगा। सिलेबस एवं बदलते एग्जाम पैटर्न के अनुसार तैयारी करवाई जाएगी। उपायुक्त भी समय मिलते भी क्लास लेने पहुंच जाते हैं। लातेहार के विधायक वैद्यनाथ राम भी कहते हैं कि जिले में शुरू किए गए इंटीग्रेटेड कोचिंग प्रोग्राम काफी लाभ होगा। उन्होंने कहा, मार्गदर्शन के अभाव में कई प्रतिभाशाली युवा पिछड़ जाते थे, अब कोचिंग संस्थान के माध्यम से जिला के छात्र छात्राओं को सही मार्गदर्शन प्राप्त होगा तथा उन्हें प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिलेगी। सूचना जनसंपर्क विभाग की सहायक अधिकारी नेहा आईएएनएस से कहती हैं, कौशल विकास केंद्र के भवन में संचालित इस कोचिंग सेंटर में फिलहाल 100 छात्र-छात्राओं की बैठने की व्यवस्था की गई है। पहले फेज में 120 बच्चों का नामांकन कर क्लास संचालित किया जा रहा है, जिसमें 60 छात्राएं हैं। फिलहाल झारखंड लोक सेवा आयोग की होने वाली प्रारंभिक परीक्षा को फोकस कर अतिरिक्त क्लास करवाया जा रहा है। इधर, उपायुक्त अबू इमरान ने लातेहार में छात्रों के लिए पुस्तकालय की भी व्यवस्था बनाई है। उन्होंने बताया कि यहां सिटी लाइब्रेरी का निर्माण किया गया है। उन्होंने बताया कि कम आय वर्ग के युवाओं को प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी के लिए पुस्तक एवं वाचनालय की आवश्यकता थी, जिसे ध्यान में रखते हुए सिटी लाइब्रेरी बनाई गई है। सिटी लाइब्रेरी में यूपीएससी, जेपीएससी, एसएससी, बैंकिंग, रेलवे समेत अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं से सम्बंधित किताबें उपलब्ध है। --आईएएनएस एमएनपी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.