जामिया ने 2022 के लिए अपनी क्यूएस- वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग रखी बरकरार

 जामिया ने 2022 के लिए अपनी क्यूएस- वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग रखी बरकरार
jamia-retains-its-qs--world-university-rankings-for-2022

नई दिल्ली, 11 जून (आईएएनएस)। हाल ही में जारी लंदन स्थित क्यूएस वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (क्यूएस- वल्र्ड) -2022 में भारतीय विश्वविद्यालयों में से जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जामिइ) को एक व्यापक संस्थान के रूप में 6ठा स्थान दिया गया है। विश्वविद्यालय को 2019 से क्यूएस द्वारा रैंक किया जा रहा है और क्यूएस- वल्र्ड के अनुसार यह लगातार विश्व के प्रतिष्ठित शीर्ष 800 संस्थानों में शामिल हुआ है। इस साल क्यूएस वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2022 में दुनिया भर के 1,300 विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया। प्रत्येक संस्थान का मूल्यांकन छह प्रमुख मैट्रिक्स के अनुसार किया गया है, अर्थात नियोक्ता प्रतिष्ठा, संकाय /छात्र अनुपात, प्रति संकाय उद्धरण, अंतर्राष्ट्रीय संकाय अनुपात और अंतर्राष्ट्रीय छात्र अनुपात। रैंकिंग के लिए शिक्षण के उनके फोकस क्षेत्र के आधार पर संस्थानों को व्यापक प्लस, व्यापक, केंद्रित और विशेषज्ञ के रूप में क्यूएस द्वारा वगीर्कृत किया जाता है। जामिया को व्यापक संस्थान के रूप में वर्गीकृत किया गया है क्योंकि विश्वविद्यालय विविध शैक्षणिक विषयों में शिक्षा प्रदान करता है। क्यूएस-2022 रैंकिंग में भारत के 35 संस्थान शामिल हैं। क्यूएस रैंकिंग ने जामिया को दुनिया में 751-800 पर और एशिया में 203 वें स्थान पर रखा है। इसे भारत के विश्वविद्यालयों में एक व्यापक संस्थान के रूप में 6ठे स्थान पर रखा गया है। हाल ही में, टाइम्स हायर एजुकेशन वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 द्वारा जामिया को 601-800 पर और इसकी एशिया रैंकिंग में 180 वें स्थान पर रखा गया था। जामिया को एनआईआरएफ 2020 रैंकिंग में देश के विश्वविद्यालयों में 10वें स्थान पर रखा गया है। जामिया की कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने कहा , विश्वविद्यालय ने अपने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पहचान में सुधार करने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। जामिया में शिक्षण और अनुसंधान उत्कृष्टता को अंतरराष्ट्रीय साथियों के साथ मापा और पहचाना जा रहा है। यह हम सभी के लिए बड़े गर्व और संतोष की बात है। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए सभी सहयोगियों और कर्मचारियों को धन्यवाद दिया और उन्हें आने वाले वर्षों में रैंकिंग में और सुधार करने के लिए अपने प्रयासों को जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया। -- आईएएनएस एमएसके/आरएचए

अन्य खबरें

No stories found.