पंजाब में किसान प्रदर्शन के विरुद्ध सख्ती और कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश

पंजाब में किसान प्रदर्शन के विरुद्ध सख्ती और कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश
instructions-to-take-strict-and-legal-action-against-peasant-demonstrations-in-punjab

चंडीगढ़, 07 मई (हि.स.)। पंजाब में कोविड के बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज डिप्टी कमीश्नरों को अपने-अपने जिलों में जरूरत पड़ने पर कोई भी नया और सख्त प्रतिबंध लगाने के लिए अधिकृत किया।इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने स्पष्ट कर दिया कि गैर-जरूरी दुकानों और प्राइवेट दफ्तरों को रोटेशन (बारो-बारी) के आधार खोले जाने को छोड़कर बाकी मौजूदा प्रतिबंधों में किसी तरह की ढील बरतने की इजाजत नहीं दी जायेगी। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर ने डीजीपी को राज्य में साप्ताहिक लाकडाउन को सख्ती से लागू करवाने और शनिवार को किसान संघर्ष मोर्चा के लाकडाउन विरोधी प्रदर्शन के मद्देनजर किसी भी तरह का उल्लंघन होने पर सख्ती से निपटने के हुक्म दिए हैं। उन्होंने कहा कि 32 किसान यूनियनों पर आधारित किसान मोर्चा राज्य सरकार पर शर्तें नहीं थोप सकता। उन्होंने बन्दिशों का उल्लंघन की सूरत में सख्त कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि यदि प्रतिबंधों का उल्लंघन करके कोई भी दुकान खोली गई तो दुकान मालिक पर भी कानूनी कार्रवाई होगी। कोविड की उच्च स्तरीय वर्चुअल मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने डिप्टी कमीश्नरों को स्थानीय विधायकों और अन्य सम्बन्धित पक्षों को भरोसे में लेने के बाद गैर-जरूरी दुकानों और प्राइवेट दफ्तरों को रोटेशन के आधार पर खोलने के बारे कोई भी फैसला लेने के लिए अधिकृत किया है। हालाँकि राज्य के मार्गों पर वस्तुएँ और लोगों के बिना किसी दिक्कत से आने-जाने की जरूरत का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि डिप्टी कमिश्नर अंतर-राज्यीय यातायात के बारे कोई बन्दिश नहीं लगा सकते। उन्होंने कहा कि यदि कोई नयी बंदिश या रोटेशन के आधार पर दुकानें खोलनी हैं तो इस पर अमल सोमवार से होगा। डीजीपी ने बताया कि अलग-अलग जिले चरणबद्ध दुकानें खोलने के अलग-अलग मॉडल अपनाना चाहते हैं तो इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय स्तर पर फैसले लेने के लिए डिप्टी कमीश्नरों पर छोड़ दिया गया है। मालवा क्षेत्र में कोविड मामलों में वृद्धि का गंभीर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव विनी महाजन को बीते साल तैनात किये गए वालिंटियरों की सेवाओं फिर हासिल करने की संभावनाओं तलाशने और गाँवों में सभी निवासियों का रैपिड एंटीजन टेस्ट करने के लिए कहा है। उन्होंने मौत दर को काबू में लाने की जरूरत पर जोर दिया जो 6 मई तक 2.1 प्रतिशत है। स्वास्थ्य सचिव हुसन लाल ने मीटिंग के दौरान बताया कि पंजाब में 9000 के करीब केस आने से गुरुवार को राज्य में पाॅजिटिविटी दर 13.5 प्रतिशत पर पहुँच गई है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने एल -3 बेड का सामर्थ्य बढ़ाने के इलावा रेमेडिसिवर 100 एम.जी और अन्य जरूरी दवाओं की खरीद बढ़ा दी है। विभाग की तरफ से आज 60,000 आक्सीमीटर की सप्लाई की उम्मीद की जा रही है और इसको फतेह किटों के अंतर्गत कोविड मरीजों को वितरित दिया जायेगा। हिन्दुस्थान समाचार/ नरेंद्र जग्गा/रामानुज