information-and-relaxed-color-in-painting-on-walls-in-kumbh-nagari
information-and-relaxed-color-in-painting-on-walls-in-kumbh-nagari
देश

कुम्भ नगरी में दीवारों पर चित्रकारी में जानकारी और सुकून का रंग

news

हरिद्वार, 08 अप्रैल (हि.स.)। कुंभ नगरी हरिद्वार को महाकुंभ 2021 के लिए दुल्हन की तरह सजाया गया है। हरकी पैड़ी से लेकर ऋषिकेश, ढालवाला व राजाजी पार्क के बफर जोन तक पूरे कुंभ क्षेत्र का कायाकल्प किया गया है। यहां जहां भी आपकी नजर पड़ेगी, वहां पर सुन्दर आकृतियां एवं चित्रकारी आपकी आंखों को सुकून देगी। खास बात यह है कि इस बार के महाकुंभ का आयोजन ग्रीन-क्लीन कुंभ की थीम पर आधारित होगा। इसमें गंगा की शुद्धता और पर्यावरण की रक्षा पर जोर दिया गया है। इसके अलावा कुंभ के दौरान विद्युत ऊर्जा का कम से कम इस्तेमाल हो और सौर ऊर्जा का अधिकाधिक इस्तेमाल हो, इसकी पूरी तैयारी की गई। पूरा हरकी पैड़ी क्षेत्र-मुख्य कुंभ नगर सोलर-पॉवर आधारित एलईडी लाइट्स से जगमगा रहा है। मेला क्षेत्र को भव्य रूप प्रदान करने के लिए शानदार तरीके से आकर्षक रंगों से सजाने का काम किया गया है। दिन के समय रंग बिरंगे चित्रों से सजे कुंभ मेला क्षेत्र शाम गहराते ही सौर ऊर्जा से संचालित होने वाली विविध रंगों की लेजर लाइट्स से चमक रहा है। इन लाइट्स की वजह से कुंभ मेला क्षेत्र की इमारतों का रंग अपने-अपने स्वरूप के अनुसार बदलने लगता है। कुंभनगरी के मठ, मंदिरों के अलावा सरकारी भवनों, चौराहों को भव्य रूप दिया गया है। कुंभ क्षेत्र में संत-महात्माओं, भगवान श्रीराम व चारों धामों के चित्रों को भव्य रूप से दर्शाया गया है। साथ ही हरिद्वार के भवन एवं दीवारों पर भगवान शंकर व चारों धामों के मंदिरों के दर्शन छाया चित्रों के माध्यम से देखने को मिल रहे हैं। यही नहीं कुंभ कलश के साथ-साथ धार्मिक चित्रों के संग्रह भी हरेक दीवारों पर उतारे गए हैं। इधर, कुंभ क्षेत्र में पड़ने वाले सरकारी भवनों समेत पुल, घाट आदि की दीवारों को धार्मिक मान्यताओं के पौराणिक चित्रों व संस्कृति के रंग बिखेरते चित्रों से सजाया गया है। अर्थात हरिद्वार-रुड़की विकास प्राधिकरण के ‘पेंट माई सिटी’ कैम्पेन से धर्म नगरी की फिजा बदलने की कोशिश की गई है। कुंभ की तैयारी दिव्य और भव्य हैः मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का कहना है कि महाकुम्भ श्रद्धालुओं के स्वागत के लिए एकदम तैयार है। इस बार का कुंभ दिव्य और भव्य हो रहा है। कुंभ नगरी में घर-घर की दीवारों को सजाया गया है। यह चित्रकारी लोगों को अपनी ओर बरबस आकर्षित कर रही है। दीवारों पर पर्वतीय संस्कृति की झलक नजर आ रही है। हमने विभिन्न प्रतिष्ठित कला संस्थानों के छात्रों और शोधार्थियों को आमन्त्रित किया है। वे चित्रकारी से लोक परंपराओं व संस्कृति के रंगों से महाकुम्भ को सराबोर करें। कुम्भ में की गई चित्रकारी ने दिलाई पहचान चित्रकार संदीप रघुवाण का कहना है कि उन्होंने रातदिन हरिद्वार की गलियों की खाक छानी है। बहुत ही कर्मठता के साथ सभी चित्रकार साथियों ने अपनी-अपनी कला का हुनर दिखाया है। उन्होंने कहा कि उनका यह पहला काम है, जो बड़े स्तर पर किया गया है। अब तो उनकी मांग अलग-अलग क्षेत्रों में हो रही है। संदीप ने बताया कि कुम्भ में जो चित्रकारी उन्होंने की है, वह उसके भविष्य के लिए सुरक्षित हो गई है। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत