आईएमएफ ने चेताया : अफगान आर्थिक संकट पड़ोसियों के लिए शरणार्थी संकट को बढ़ा सकता है

 आईएमएफ ने चेताया : अफगान आर्थिक संकट पड़ोसियों के लिए शरणार्थी संकट को बढ़ा सकता है
imf-warns-afghan-economic-crisis-may-exacerbate-refugee-crisis-for-neighbors

नई दिल्ली, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने कहा है कि अफगानिस्तान का आर्थिक संकट पड़ोसी देशों, तुर्की और यूरोप को प्रभावित करने वाले शरणार्थी संकट को बढ़ावा दे सकता है। बीबीसी की रिपोर्ट ने इसकी जानकारी दी है। आईएमएफ ने चेतावनी दी कि इस साल अर्थव्यवस्था 30 प्रतिशत तक घट जाएगी, जो लाखों लोगों को गरीबी में धकेल सकती है और मानवीय संकट का कारण बन सकती है। रिपोर्ट में कहा गया, आईएमएफ ने चेतावनी दी है कि अफगानिस्तान के पड़ोसियों को और नुकसान होगा, क्योंकि वे व्यापार के लिए उसके धन पर निर्भर है। सीमावर्ती ताजिकिस्तान ने कहा है कि वह और अधिक शरणार्थियों को लेने का जोखिम नहीं उठा सकता। विदेशी संपत्ति जमी हुई है और अधिकांश गैर-मानवीय सहायता रुकी हुई है, अफगानिस्तान में नकदी की आमद पूरी तरह से सूख गई है। अपने क्षेत्रीय आर्थिक दृष्टिकोण में, फंड ने कहा, शरणार्थियों की एक बड़ी आमद शरणार्थी-होस्टिंग देशों में सार्वजनिक संसाधनों पर बोझ डाल सकती है। श्रम बाजार के दबाव को बढ़ा सकती है और सामाजिक तनाव को जन्म दे सकती है। यह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से सहायता की आवश्यकता को रेखांकित करती है। पिछले महीने ताजिकिस्तान ने कहा था कि वह बड़ी संख्या में शरणार्थियों को लेने का जोखिम नहीं उठा सकता जब तक कि उसे अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सहायता नहीं मिलती, जबकि अन्य मध्य एशियाई देशों ने कहा है कि शरणार्थियों की मेजबानी करने की उनकी कोई योजना नहीं है। एक प्रमुख व्यापारिक भागीदार के रूप में अफगानिस्तान के नुकसान से आसपास के देश भी आहत होंगे। आईएमएफ ने यह भी चेतावनी दी कि ऐसी चिंताएं हैं कि देश में जाने वाले धन का इस्तेमाल आतंकवाद को वित्तपोषित करने और धन के शोधन के लिए किया जा सकता है। --आईएएनएस एसकेके/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.