हाई रैंक वाले छात्रों को चार वर्षों के लिए छात्रवृत्ति देगा आईआईटी गांधीनगर
iit-gandhinagar-to-give-scholarship-to-high-ranked-students-for-four-years

हाई रैंक वाले छात्रों को चार वर्षों के लिए छात्रवृत्ति देगा आईआईटी गांधीनगर

नई दिल्ली, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। जेईई-एडवांस्ड 1000 रैंक या इससे बेहतर (सामान्य रैंक सूची के अनुसार) वाले छात्र यदि आईआई गांधी नगर में दाखिला लेते हैं तो संस्थान उन्हें आईआईटी में उनके स्नातक कार्यक्रम के सभी चार वर्षों के लिए संपूर्ण शिक्षण शुल्क के बराबर छात्रवृत्ति प्रदान करेगा। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गांधीनगर 23 अक्टूबर को संभावित बीटेक छात्रों के लिए एक लाइव जेईई ओपन हाउस की मेजबानी करने जा रहा है। वर्चुअल इंटरेक्टिव इवेंट का उद्देश्य जेईई (एडवांस्ड) योग्य छात्रों और उनके माता-पिता को आईआईटी में विभिन्न इंजीनियरिंग शाखाओं, विभिन्न कैरियर के अवसरों के बारे में मार्गदर्शन करना है। आईआईटी गांधीनगर के मुताबिक इस लाइव जेईई ओपन हाउस के जरिए आईआईटी प्रणाली को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी। जेईई ओपन हाउस कार्यक्रम में आईआईटी गांधीनगर के निदेशक, प्रोफेसर सुधीर के जैन, आईआईटीजीएन शैक्षणिक और छात्र मामलों के डीन, छात्र नेतृत्व और संस्थान के पूर्व छात्र शामिल हैं। यहां प्रतिभागी छात्र आईआईटी में स्नातक शिक्षा से संबंधित अपने प्रश्नों और शंकाओं पर प्रत्यक्ष मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं। दुनिया भर से छात्र और उनके माता-पिता इस सत्र में आईआईटी के ओपन हाउस वेबपेज के माध्यम से निशुल्क भाग ले सकते हैं। संस्थान के मुताबिक इस ओपन हाउस के जरिए छात्र आईआईटी गांधी नगर की संस्कृति, अभिनव पाठ्यक्रम, डबल प्रमुख और दोहरी डिग्री कार्यक्रमों, शाखा परिवर्तन के लिए उदार नीति, स्नातक अनुसंधान के अवसर, बुनियादी ढांचे और छात्र सहायता, अंतर्राष्ट्रीय इंटर्नशिप के अवसर, कैरियर विकास सेवाओं, उद्यमिता के अवसरों, सह- पाठ्येतर और पाठ्येतर पहल, शैक्षिक नवाचार और छात्र-केंद्रित पहल से रूबरू हो सकेंगे। इसके अलावा, यदि जेईई-एडवांस्ड रैंक 1000 या बेहतर (सामान्य रैंक सूची के अनुसार) वाले छात्र आईआईटीजीएन में शामिल होते हैं, तो संस्थान उन्हें आईआईटी में उनके स्नातक कार्यक्रम के सभी चार वर्षों के लिए संपूर्ण शिक्षण शुल्क के बराबर छात्रवृत्ति प्रदान करेगा। --आईएएनएस जीसीबी/एएनएम

Related Stories

No stories found.