Hipr: new motor boat will be taken to find birds dying from bird flu: CM
Hipr: new motor boat will be taken to find birds dying from bird flu: CM
देश

हिप्र : बर्ड फ्लू से मर रहे पक्षियों को ढूढ़ने के लिए ली जाएंगी नई मोटर बोट : मुख्यमंत्री

news

धर्मशाला, 09 जनवरी (हि.स.) । मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि पौंग झील वेटलैंड का क्षेत्र बड़ा होने के कारण बर्ड फ्लू के कारण मारे गए पक्षियों को ढूंढने में मुश्किल आ रही है। इसके चलते सरकार जल्द नई मोटर बोट का इंतज़ाम करने जा रही है। मुख्यमंत्री जयराम ने शनिवार को धर्मशाला में पत्रकार सम्मेलन में बताया कि इस समय राज्य में तीन या चार ही मोटर बोट हैं जिसके चलते काफी दिक्कत हो रही है। यहां पर कौओं की मौत भी एक चिंता का विषय भी लेकिन वन्य प्राणी व पशु पालन विभाग अपनी नजर प्रत्येक मामले को लेकर बनाए हुए हैं। ऐसे में लोगों को जागरूक करना भी जरूरी है। जिला प्रशासन शीघ्र ही पौंग के आस-पास के क्षेत्रों के लोगों जागरूक करने के लिए अभियान छेड़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बर्ड फ्लू के कारण यहां के लोगों में डर भी है, जिसे लेकर उन्हें जागरूक करने के साथ सर्तकता बरतने के बारे में भी बताया जाएगा। उन्होंने कहा कि राहत की बात यह है कि पोल्ट्री में अभी तक कोई बर्ड फ्लू का मामला सामने नहीं आया है लेकिन विदेशी परिंदों में बर्ड फ्लू के प्रतिदिन बढ़ रहे मामले चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मामलों में पहले के मुकाबले में काफी कमी आई है और अब प्रद्रेश में पर्यटक भी बढ़ने लगा है। उन्हाेंने संभावना व्यक्त की कि ग्रामीण संसद के चुनावों में कोविड-19 के मामले बढ़ सकते हैं, पर सरकार पूरी तरह से एहतियात भी बरती रही है। उन्होंने पंचायत चुनाव में चुने जाने वाले जन प्रतिनिधियों से जीत के बाद जश्न नहीं मनाने का आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा दी छूटों के बाद प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़े भी थे लेकिन इसके बाद कुछ प्रतिबंध लगाए गए। कांग्रेस ने इसे लेकर भी अपनी राजनीति की। मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 जनवरी को स्वर्ण जयंती समारोह मनाया जा रहा है और इसी उपलक्ष्य में प्रदेश भर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन भी एक वर्ष होगा, जिसमें हालात ठीक होने पर पौंग में भी कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पर्यटन की दृष्टि से हवाई अड्डों का निर्माण व विस्तार भी जरूरी है। और इस दिशा में मंडी के हवाई अड्डा का निर्माण व कांगड़ा हवाई अड्डा के विस्तार को लेकर मामला केंद्रीय वित्त मंत्रालय के पास स्वीकृति के लिए भेजा जा चुका है। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील/रामानुज-hindusthansamachar.in