हिमाचल भाजपा के नए सिरमौर, शिमला के सांसद सुरेश कश्‍यप
हिमाचल भाजपा के नए सिरमौर, शिमला के सांसद सुरेश कश्‍यप
देश

हिमाचल भाजपा के नए सिरमौर, शिमला के सांसद सुरेश कश्‍यप

news

शिमला, 22 जुलाई (हि.स.) (अपडेट)।शिमला संसदीय क्षेत्र के सांसद सुरेश कश्यप को भाजपा हाई कमान ने डॉ राजीव बिंदल की जगह हिमाचल भाजपा का अध्यक्ष बनाया है। 2019 का लोकसभा चुनाव जीतने से पहले सुरेश कश्यप दो मर्तबा सिरमौर जिला की पच्छाद विधानसभा सीट से विधायक रह चुके हैं। दोनों ही मर्तबा उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गंगू राम मुसाफिर को पराजित किया। उल्लेखनीय है कि प्रदेश स्वास्थ्य विभाग में कोविड-19 की खरीद में घोटाले के आरोप लगे। कथित खरीद घोटाले में करीबी का नाम उछलने के बाद भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने बीते मई माह में अपने पद से त्याग पत्र दे दिया था। डॉ बिंदल के त्याग पत्र के बाद से प्रदेश में भाजपा का अध्यक्ष पद खाली था। तमाम संगठनात्मक कार्यों को संगठन महामंत्री पवन राणा व महामंत्री त्रिलोक जम्वाल संभाले हुए थे। हालांकि इस दौरान बीच में एक दौर ऐसा भी आया कि राज्य सभा सांसद इंदु गोस्वामी का नाम प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार के तौर पर उछला। इंदु गोस्वामी के लगातार दो दिनों तक शिमला में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व कुछेक काबिना मंत्रियों से मुलाकात के बाद चर्चाओं को बल भी मिला। मगर भाजपा हाई कमान कुछ और ही सोच रहा था। बुधवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सांसद सुरेश कश्यप को पार्टी का प्रदेशाध्यक्ष घोषित कर दिया। 23 जुलाई 1971 को जन्मे सुरेश कश्यप भारतीय वायु सेना में 16 साल तक सेवाएं दे चुके हैं। वह सिरमौर जिला के पपलाहन गांव के निवासी हैं। स्नात्कोत्तर तक शिक्षा प्राप्त करने के साथ साथ उन्होंने लोक प्रशासन में एमफिल की डिग्री भी हासिल की है। वायु सेना से रिटायर होने के बाद उन्होंने पंचायत समिति सदस्य के तौर पर अपनी राजनीतिक पारी प्रारंभ की। 2004 में वह वायु सेना से रिटायर हुए तथा 2005 में पंचायत समिति पच्छाद के सदस्य चुने गए। इसके बाद 2006 में कश्यप भाजपा में शामिल हुए तथा सिरमौर जिला अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष बने। 2009 से 2012 तक वह भाजपा एससी मोर्चा के प्रदेश महामंत्री रहे। इस बीच सुरेश कश्यप ने दो मर्तबा 2012 व 2017 में पच्छाद विधानसभा सीट से विधायक चुने गए। 2019 में भाजपा ने उन्हें लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाया। कश्यप आसानी से चुनाव जीत गए। अब उनके कंधों पर भाजपा को 2022 के चुनाव की वैतरणी पार करवाने का जिम्मा है। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/बच्चन-hindusthansamachar.in