आंध्र प्रदेश के तीन जिलों में हो रही भारी बारिश

 आंध्र प्रदेश के तीन जिलों में हो रही भारी बारिश
heavy-rain-in-three-districts-of-andhra-pradesh

अमरावती, 19 नवंबर (आईएएनएस)। दिन के तड़के पुडुचेरी और चेन्नई के नेल्लोर, चित्तूर और कडप्पा जिलों में शुक्रवार को भारी बारिश हुई। तीन जिलों के निचले इलाकों में पानी भर गया है, जबकि नाले, टैंक और जलाशयों में पानी भर गया है। भारी बारिश ने सामान्य जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है। अधिकारियों ने प्रभावित जिलों के सभी शैक्षणिक संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना दबाव सुबह 3 से 4 बजे के बीच तट को पार कर गया, जिससे भारी बारिश हुई। आंध्र प्रदेश के आपदा प्रबंधन आयुक्त के. कन्नबाबू ने कहा कि दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में व्यापक बारिश की संभावना है। कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की भी संभावना है। तट पर 45 से 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है। अधिकारियों ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी है। आपदा प्रबंधन आयुक्त कन्नबाबू ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीमें बचाव और राहत कार्यों के लिए चित्तूर और नेल्लोर जिले में पहुंच गई हैं। निचले इलाकों के लोगों को सतर्क रहने को कहा गया है। इस बीच, राज्य सरकार ने नेल्लोर, चित्तूर और कडप्पा जिले में बचाव और राहत कार्यों की निगरानी के लिए तीन विशेष अधिकारियों को नियुक्त किया है। मुख्यमंत्री वाई.एस.जगन मोहन रेड्डी के निर्देश पर गुरुवार रात ये अधिकारी संबंधित जिलों में पहुंचे। भारी बारिश के कारण आई बाढ़ के मद्देनजर अधिकारी व्यक्तिगत रूप से राहत कार्यों की निगरानी करेंगे। वे स्थिति पर मुख्यमंत्री को रिपोर्ट सौंपेंगे। सरकार ने शिक्षा सचिव बी. राजशेखर को नेल्लोर जिले में, विपणन आयुक्त प्रद्युम्न को चित्तूर जिले में और एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी शशि भूषण कुमार को कडप्पा जिले में प्रतिनियुक्त किया है। इस बीच, मंदिर नगरी तिरुपति के कई इलाकों में शुक्रवार को पानी भर गया। गुरुवार से हो रही भारी बारिश ने कस्बे में कहर बरपा रखा है। जलजमाव वाले इलाकों के लोग अभी भी पानी उतरने का इंतजार कर रहे हैं। राहत शिविरों में तब्दील किए गए स्कूल और सामुदायिक भवन भी जलमग्न हो गए है। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.