कोरोना से मृत लोगों के परिजनों को मुआवजे की मांग पर सुनवाई 21 को

 कोरोना से मृत लोगों के परिजनों को मुआवजे की मांग पर सुनवाई 21 को
hearing-on-the-demand-of-compensation-to-the-families-of-the-dead-people-from-corona-on-21

नई दिल्ली, 11 जून (हि.स.)। सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संक्रमण से मृत लोगों के परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को जवाब देने के लिए समय दे दिया है। इस मामले पर अगली सुनवाई 21 जून को होगी। आज सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मामले पर सहानुभूतिपूर्वक विचार चल रहा है और इस पर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने जवाब दाखिल करने के लिए समय देने की मांग की जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया। पिछले 24 मई को कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया था। याचिका वकील रीपक कंसल ने दायर की है। याचिका में डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट की धारा 12 के तहत कोरोना संक्रमण से मृत लोगों के परिजनों को मुआवजा देने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि मृतकों के परिजनों को मौत की मूल वजह जानने का हक है। मेडिकल अफसर कोरोना संक्रमण से मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम नहीं कर रहे हैं। ऐसे में मौत की असली वजह का पता नहीं चल पा रहा है। याचिका में कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने कोरोना से मृतकों के परिजनों को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ से चार लाख रुपये मुआवजे के तौर पर देने की अनुशंसा की थी। ऐसे में राज्य सरकारों की ये जिम्मेदारी है कि वे कोरोना से मृतकों के परिजनों की देखभाल करें। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/पवन