Gyan Ganga: बालि ने प्रभु की पावन गोद में अपने प्राणों का विसर्जन कर महान पद को प्राप्त किया

Gyan Ganga: बालि ने प्रभु की पावन गोद में अपने प्राणों का विसर्जन कर महान पद को प्राप्त किया
Gyan-Ganga-बालि-ने-प्रभु-की-पावन-गोद-में-अपने-प्राणों-का-विसर्जन-कर-महान-पद-को-प्राप्त-किया

आश्चर्य की सीमा नहीं है, क्योंकि जिस प्रकार की आध्यात्मिक उन्नति की छलाँग बालि ने लगाई, उसे लगाने में बड़े-बड़े योगी जन भी असमर्थ सिद्ध हुए हैं। यही चातुर्य का सदुपयोग है। जिस चतुराई से चतुर्भुज मिले, भला ऐसी चतुराई में क्या हानि। चातुर्य तो वहाँ विनाश का कारण बनता क्लिक »-www.prabhasakshi.com

अन्य खबरें

No stories found.