ऑक्सीजन उत्पादन के लिए डीआरडीओ के उपकरणों का इस्तेमाल करने पर विचार करे दिल्ली सरकार

ऑक्सीजन उत्पादन के लिए डीआरडीओ के उपकरणों का इस्तेमाल करने पर विचार करे दिल्ली सरकार
government-of-delhi-should-consider-using-drdo-equipment-for-oxygen-production

नई दिल्ली, 29 अप्रैल (हि.स.)। हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वो यूपी सरकार की तरह ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए डीआरडीओ के कुछ उपकरणों के इस्तेमाल पर विचार करे। कोर्ट ने उम्मीद जताई कि सभी पक्ष दिल्ली की ऑक्सीजन की जरूरत को पूरी करेंगे। सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार की ओर से वकील राहुल मेहरा ने हाईकोर्ट में बताया कि केंद्र सरकार ने पीएम केयर फंड से 8 और ऑक्सीजन प्लांट का आवंटन किया है। हम जर्मनी से भी प्लांट मंगा रहे हैं। हर कोई जो दान करना चाहता है, वह ऑक्सीजन प्लांट के लिए दान कर रहा है। तब कोर्ट ने पूछा कि इन प्लांट की क्या स्थिति है। इस पर एएसजी सत्यकाम ने कहा कि इस पर हमने 53 पेज का दस्तावेज कोर्ट में दाखिल किया है। राहुल मेहरा ने कहा कि 8 प्लांट को इंस्टाल किया जाना है जिसके लिए वेंडर की जरूरत है। कोर्ट ने इस बात को नोट किया कि दो प्लांट तैयार हैं। उनमें से एक सफदरजंग में है। सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से वकील तुषार राव ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए डीआरडीओ के उपकरणों का इस्तेमाल कर रही है। तब कोर्ट ने राहुल मेहरा से पूछा कि क्या आप ऐसा कर रहे हैं। इस पर हाईकोर्ट को सूचना दी गई कि डीआरडीओ के उपकरणों के इस्तेमाल से एक मिनट में एक लाख लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होता है। इसके बाद कोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वो डीआरडीओ के उपकरणों के इस्तेमाल पर विचार करे। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत