अब कोरोना के बहाने गहलोत बुलाएंगे विधानसभा सत्र, राज्यपाल को भेजा संशोधित प्रस्ताव
अब कोरोना के बहाने गहलोत बुलाएंगे विधानसभा सत्र, राज्यपाल को भेजा संशोधित प्रस्ताव
देश

अब कोरोना के बहाने गहलोत बुलाएंगे विधानसभा सत्र, राज्यपाल को भेजा संशोधित प्रस्ताव

news

जयपुर, 26 जुलाई (हि.स.)। राजस्थान में सियासी उठापटक के 17वें दिन रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 31 जुलाई से विधानसभा सत्र बुलाने के लिए राज्यपाल को संशोधित प्रस्ताव भेज दिया। नए प्रस्ताव में फ्लोर टेस्ट का जिक्र नहीं किया गया है। इसमें कोरोना वायरस की स्थिति पर चर्चा करने के साथ-साथ दूसरे विधेयकों पर भी चर्चा का जिक्र किया गया है। गहलोत मंत्रिमंडल ने शनिवार को राज्यपाल को भेजे जाने वाले संशोधित प्रस्ताव को मंजूरी दी, इसके बाद इसे राज्यपाल के पास भेज दिया गया। इस बीच कांग्रेस का स्पीकअप फॉर डेमोक्रेसी अभियान शुरु हो गया। सोशल मीडिया पर स्पीकअप फॉर डेमोक्रेसी अभियान शुरू करने के बाद कांग्रेस नेता अजय माकन ने रविवार दोपहर जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी कोरोना से लडऩे की बजाय कांग्रेस से लड़ रहे हैं। इसी दौरान स्पीकअप फॉर डेमोक्रेसी अभियान में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया। वीडियो में कहा गया कि भाजपा लोकतंत्र को खत्म कर रही है। राजस्थान में सरकार को गिराने की कोशिश की जा रही है। ऐसा ही उन्होंने मध्यप्रदेश में किया। हम राजस्थान विधानसभा का सत्र बुलाने की मांग करते हैं। राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि भाजपा हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है। राज्यपाल ने विधानसभा सत्र बुलाने के मुख्यमंत्री के अनुरोध की अनदेखी की है। इससे पता चलता है कि केंद्र सरकार संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है। राज्यसभा सांसद व कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल के आह्वान पर कांग्रेस 27 जुलाई को देशभर में राजभवन का घेराव करेगी। इस अभियान को प्रजातंत्र के लिए बोलो नाम दिया गया है। सोमवार को स्पीकर सीपी जोशी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई एसएलपी पर सुनवाई होगी। केन्द्र सरकार को इसमें पक्षकार बनाए जाने के बाद अब सोमवार को प्रदेशवासियों की निगाहें सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर रहेगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने होटल फेयरमोंट में सुबह योग क्लास के बाद विधायकों के साथ बैठक की। गहलोत यहां रात में ही पहुंच गए थे। गहलोत दोपहर करीब 12 बजे होटल से अपने घर चले गए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के चीफ गोविंद सिंह डोटसरा ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राज्य में लोकतंत्र को बचाने के लिये स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी अभियान से जुडऩे की अपील की है। सवेरे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने ट्वीट कर राजभवन के घेराव वाले बयान पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा। उन्होंंने लिखा कि जनता सब देख रही है, ईश्वर भी साक्षी है, आपका ईमान कैसे गवाही दे रहा है,कुर्सी की भूख ने आपको लोभी बना दिया है कोरोना ही नहीं अपराध भी तेजी से बढ़ रहे हैं, क्या बाड़े में बैठे रहना ही लोकतंत्र है? कांग्रेस बताए कि अशोक गहलोत सरकार बाड़े से कब निकलेगी? हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप/सुनीत-hindusthansamachar.in