खुले मैनहोल पर गांधी-गिरी बना अधिकारियों के लिए परेशानी और लोगों के मनोरंजन का सबब

 खुले  मैनहोल पर गांधी-गिरी बना अधिकारियों के लिए परेशानी और लोगों के मनोरंजन का सबब
gandhi-giri-on-open-manhole-became-a-source-of-trouble-for-the-officials-and-entertainment-of-the-people

ठाणे (महाराष्ट्र), 13 जुलाई (आईएएनएस)। कामकाज के लिए भागदौड़ में लगे लोग मंगलवार को यहां एक फुटपाथ पर खुले मैनहोल से बाहर रखे फूलों के गुलदस्ते को देखने के लिए रुक गए। इन गुलदस्तों पर साहेब के लिए संदेश लिखा था। खुले हुए मैनहोल के खतरों के बारे में लोगों को बताने के लिए शांतिपूर्ण तरीके से गांधी-गिरी शैली में पैदल चलने वालों को चेतावनी आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थी। कई लोग अपने मोबाइल फोन से इन गटर-लाइनों के फोटो क्लिक करते नजर आए। स्थानीय कार्यकर्ता डॉ बीनू वार्गीस - जिन्होंने सड़क के उस हिस्से की तस्वीरें और वीडियो साझा किया, उन्होंने दावा किया कि खुले मैनहोल स्थानीय भारतीय जनता पार्टी के विधायक संजय केलकर के घर के सामने और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के आवास मंत्री डॉ जितेंद्र आव्हाड के पुराने घर के पास हैं। डॉ वार्गीस ने कहा, स्पष्ट खतरों के बावजूद, न तो स्थानीय नागरिक अधिकारियों और न ही ठाणे के निर्वाचित नेताओं को परेशान करता है। जिसने भी यह संदेश (साहेब - सर) के साथ गुलदस्ता भेंट किया है, उसने समाज की एक शांत सेवा की है। उन्होंने याद किया कि कैसे, मुंबई से सटे भांडुप में एक फुटपाथ पर, दो महिलाएं ऐसे खुले नाले में गिर गई थीं, जहां भारी बारिश और बाढ़ से कवर स्पष्ट रूप से एक तरफ धकेल दिया गया था। (10 जून)। फोटो वायरल होते ही मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर मौके का निरीक्षण करने के लिए दौड़ीं और बृहन्मुंबई नगर निगम को उस दिन आवश्यक कार्रवाई करने का आदेश दिया। डॉ वर्गीज ने चुने हुए नेताओं और नगर निगम के अधिकारियों से अगले कुछ दिनों में भारी बारिश के पूवार्नुमान के साथ इसी तरह की दुर्घटनाओं को रोकने के लिए शहर के सभी गटर या मैनहोल को कवर करने का निर्देश् दिया है। --आईएएनएस एसएस/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.