पाकिस्तानी अखबारों सेः अमेरिका के जरिए मध्य एशिया में फौजी अड्डा तलाश किए जाने की खबरें छाईं

पाकिस्तानी अखबारों सेः अमेरिका के जरिए मध्य एशिया में फौजी अड्डा तलाश किए जाने की खबरें छाईं
from-pakistani-newspapers-there-were-reports-of-search-for-military-base-in-central-asia-through-america

- कनाडा में पाकिस्तानी परिवार को ट्रक से कुचलने की घटना पर संसद से लेकर सड़क तक हंगामा - अब कश्मीर का हवाला देकर क्रिकेट सीरीज पर भारतीय कंपनियों से कारोबार करने से किया इंकार नई दिल्ली, 09 जून (हि.स.)। पाकिस्तान से बुधवार को प्रकाशित अधिकांश समाचारपत्रों ने अफगानिस्तान पर नजर रखने के लिए पाकिस्तान में फौजी अड्डा नहीं दिए जाने की खबरों के बीच अमेरिका के जरिए अब मध्य एशिया के देशों में फौजी अड्डे की तलाश किए जाने से सम्बंधित खबरें दी हैं। अखबारों ने लिखा है कि अमेरिका के जरिए अफगानिस्तान से जाने के बाद वहां पर अपनी नजरें गड़ाने और और आतंकवादी गतिविधियों को नेस्तनाबूद करने के इरादे से पाकिस्तान से फौजी अड्डा दिए जाने की मांग की थी। पाकिस्तान सरकार ने विपक्षी दलों के दबाव के आगे झुकते हुए अमेरिका को अपनी शर्तों के आधार पर अड्डा दिए जाने की पेशकश की है जिसे अमेरिका ने मानने से इनकार कर दिया है। अखबारों का कहना है कि फिलहाल अमेरिका मध्य एशिया के देशों से इस सम्बंध में बातचीत कर रहा है। अखबारों ने कनाडा में पाकिस्तानी फैमिली को ट्रक से कुचले जाने की घटना से सम्बंधित खबरें भी दी हैं। अखबारों ने लिखा है कि इस घटना का पाकिस्तान में कड़ा विरोध किया जा रहा है। अखबारों ने लिखा है कि संसद में भी इस घटना पर कड़ा विरोध जताया गया है। अखबारों ने इमरान खान के जरिए किसानों से सीधे तौर से बातचीत किए जाने से सम्बंधित खबरें दी हैं। इस बातचीत के दौरान इमरान खान ने किसानों को आश्वासन दिया है कि वह उनकी फसलों का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। अखबारों ने मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्लाह शाहिद को संयुक्त राष्ट्र संघ आम सभा का अध्यक्ष निर्वाचित किए जाने की खबरें भी दी हैं। अखबारों ने अमेरिका के अफगानिस्तान सम्बंधों के विशेष दूत जिलमै खलीलजाद का भी एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि अमरीकी फौज अफगानिस्तान से जा रही है, अमेरिका नहीं जा रहा है। उनका कहना है कि अफगानिस्तान की सरकार को अमेरिका की हर संभव मदद और सहायता मिलती रहेगी। अखबारों ने पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो का भी एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि ना खाने को रोटी है ना पहनने को कपड़ा है फिर भी इमरान खान कहते हैं कि घबराना नहीं चाहिए। यह सभी खबरें रोजनामा नवाएवक्त, रोजनामा औसाफ, रोजनामा पाकिस्तान, रोजनामा खबरें और रोजनामा जंग ने अपने पहले पन्ने पर छापी हैं। रोजनामा खबरें ने पाकिस्तान में हुए ट्रेन हादसे के बाद घटनास्थल पर किए जा रहे बचाव एवं राहत कार्यों से सम्बंधित खबर देते हुए बताया है कि इस घटना में अब तक 65 लोगों की जान जा चुकी है। अखबार ने लिखा है कि यह घटना पटरी का जोड़ खुलने की वजह से हुई थी। अखबार का कहना है कि विभाग की तरफ से वहां पर राहत और बचाव कार्य तेजी से किया जा रहा है। अखबार ने यह भी लिखा है कि पटरी की मरम्मत का कार्य करने के बाद ट्रेनों की आवाजाही को बहाल कर दिया गया है। अखबार ने बताया कि अभी तक 47 शवों को उनके परिजनों को सौंप दिया गया है। हादसे के शिकार इंजन और 17 कोचों को भी वहां से हटा दिया गया है। अखबार ने बताया कि 10 घायलों की हालत नाजुक बनी हुई है और बाकी जख्मियों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। रोजनामा जंग ने पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री चौधरी फव्वाद हुसैन का एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि सरकारी टेलीविजन पर इंग्लैंड और पाकिस्तान क्रिकेट सीरीज के मैच दिखाने के लिए भारतीय कंपनी स्टार और सोनी से समझौता किए जाने के लिए इजाजत मांगी गई थी। उनका कहना है कि सरकार ने सरकारी टीवी के इस फैसले को फिलहाल रद्द कर दिया है। उनका कहना है कि प्रसारण के सारे अधिकार भारतीय कंपनियों के पास हैं। इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि किसी भी सूरत में इस मैच के लिए सरकारी टीवी को प्रसारण की अनुमति नहीं दे सकते हैं। उनका कहना है कि जम्मू-कश्मीर के सम्बंध में 5 अगस्त 2019 के सिलसिले में भारत सरकार के जरिए लिए गए फैसले को वापस लिए जाने तक भारत की किसी कंपनी से कारोबार नहीं करन का फैसला किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/एम ओवैस/मोहम्मद शहजाद