पाकिस्तानी अखबारों सेः भारत के कोरोना संकट से सहमा पाक, बचाव की तैयारियों पर जोर

पाकिस्तानी अखबारों सेः भारत के कोरोना संकट से सहमा पाक, बचाव की तैयारियों पर जोर
from-pakistani-newspapers-pakistan-is-troubled-by-india39s-corona-crisis-emphasis-on-preparations-for-rescue

- परमाणु उर्जा कमीशन के जरिए तैयार कराए जा रहे हैं वेंटिलेटर, इमरान ने बिल गेट्स से लगाई गुहार - सऊदी अरब के स्कूलों में रामायण और महाभारत पढ़ाए जाने की खबर पर सरहद पार हो रही है चर्चा नई दिल्ली, 29 अप्रैल (हि.स.)। पाकिस्तान से गुरुवार को प्रकाशित अधिकांश समाचार-पत्रों ने ‘मुल्क में कोरोना वायरस से तबाही’ के शीर्षक से खबरें प्रकाशित की हैं। अखबारों का कहना है कि हालात काफी खराब होते जा रहे हैं। एक दिन में 201 लोगों की मौत का नया रिकॉर्ड बना है। अखबारों का कहना है कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई बड़े शहरों में संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की तैयारी की जा रही है। अखबारों ने परमाणु उर्जा कमीशन के जरिए वेंटिलेटर तैयार किए जाने की खबरें भी दी है। अखबारों का कहना है कि वेंटिलेटर के इस्तेमाल की मंजूरी भी मिल गई है। इन वेंटिलेटर्स का इस्तेमाल जिन्नाह हॉस्पिटल लाहौर में किया गया है जो कि सही बताया जा है। अखबारों का कहना है कि विशेषज्ञों ने कहा है कि कोरोना वायरस के मद्देनजर तैयार किए गए इस वेंटिलेटर्स से लोगों को फायदा मिलेगा। अखबारों ने पीडीएम लीडर मौलाना फजलुर्रहमान का एक बयान छपा है जिसमें उन्होंने कहा है कि कश्मीरियों को दुश्मन के रहमो-करम पर छोड़ दिया गया है। उन्होंने सरकार पर कश्मीरियों का सौदा करने का आरोप लगाया है। अखबारों ने भारत में कोरोना वायरस की तबाही की खबरें भी दी है। अखबारों ने बताया कि भारत में कोरोना के एक दिन में तीन हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। अखबारों का कहना है कि एंबुलेंस, ऑक्सीजन गैस के साथ-साथ दवाओं की भी कमी होने की खबरें आ रही हैं। अखबारों का कहना है कि भारत में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या एक करोड़ 80 लाख 34 हजार से पार हो गई है। अखबारों ने बताया कि विदेशी मदद बड़ी तादाद में भारत पहुंच रही है, जिसकी वजह से भारत सरकार ने राहत की सांस ली है। अखबारों ने अमेरिकी हेल्थ इंस्टिट्यूट का एक संदेह प्रकाशित किया है जिसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस से पाकिस्तान में अगस्त तक प्रतिदिन 28 हजार लोगों की जाने जा सकती हैं। अखबारों ने प्रधानमंत्री इमरान खान की बिल गेट्स के साथ टेलीफोन पर बातचीत की खबरें भी दी हैं। अखबारों ने बताया कि दोनों ने पाकिस्तान में कोरोना की समस्या से निपटने, बेरोजगारी और भुखमरी जैसे मामलों पर बात की है। यह सभी खबरें रोजनामा नवाएवक्त, रोजनामा खबरें, रोज़नामा औसाफ, रोज़नामा पाकिस्तान और रोजनामा जंग ने अपने पहले पन्ने पर छापी हैं। रोजनामा औसाफ ने शनिवार से अमेरिकी फौजों के काबुल से वापस अपने देश जाने का सिलसिला शुरू होने की खबर देते हुए बताया है कि इस सम्बंध में अमेरिकी रक्षा मंत्री लाइड ऑस्टिन ने पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा से टेलीफोन पर बात की है। अखबार का कहना है कि इस बातचीत में प्रमुख मुद्दा काबुल से अमेरिकी फौजों के जाने को लेकर के था। अखबार ने बताया है कि इस बातचीत के दौरान क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मामलों पर भी बातचीत की गई है। अखबार का कहना है कि अमेरिका अफगानिस्तान से अपनी सेनाओं को हटाने के बाद क्षेत्र में स्थित अपने दूसरे दोस्त मुल्कों में फौजी अड्डा बनाने के मंसूबे पर काम कर रहा है। अखबार का कहना है कि अमेरिकी सेंट्रल कमांड के अध्यक्ष जनरल कैमनिथ ने कहा है कि इस फौजी अड्डे पर हवाई जहाजों और दूसरे साजो-सामान को रखा जाएगा ताकि किसी भी तरह की आतंकवादी गतिविधियों को समय रहते कुचला जा सके। रोजनामा जंग ने पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के लीडर बिलावल भुट्टो का एक बयान छपा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि शर्म का मुकान है कि पाकिस्तान आज गेहूं का आयात कर रहा है। उनका कहना है कि सिंध में किसानों पर हुकूमत जुल्म कर रही है। मैं किसानों पर जुल्म नहीं होने दूंगा। अखबार का कहना है कि बिलावल भुट्टो ने कहा है कि पाकिस्तान में केंद्र सरकार की तरफ से जो गेहूं की खरीद की कीमत तय की गई है सिंध प्रांत की उनकी सरकार ने उसमें 42 प्रतिशत की वृद्धि कर दी है। उनका कहना है कि पाकिस्तान में महंगाई बेतहाशा बढ़ रही है और लोगों को महंगाई की वजह से दो जून की रोटी खाना मुश्किल हो रहा है। सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए और लोगों को इस मुश्किल दौर से बाहर निकलना चाहिए। रोजनामा खबरें ने एक विशेष खबर छापी है जिसमें बताया गया है कि सऊदी अरब में हिंदू धर्म की प्रमुख पुस्तकों रामायण, गीता और महाभारत को वहां के स्कूलों में पढ़ाए जाने का फैसला लिया गया है। अखबार का कहना है कि सऊदी अरब के प्रिंस क्रॉउन मोहम्मद बिन सलमान के विजन-2030 का यह हिस्सा है। अखबार का कहना है कि सऊदी अरब में 4 लाख 44 हजार हिंदू रहते हैं। संयुक्त अरब अमीरात के बाद सऊदी अरब दूसरा मुल्क है, जहां बड़ी तादाद में हिंदू रहते हैं। अखबार का कहना है कि सऊदी अरब ने भारतीयों को एक बड़ा सरप्राइज दिया है। अखबार का कहना है कि मोहम्मद बिन सलमान ने इस बात की जानकारी एक इंटरव्यू के दौरान दी है। हिन्दुस्थान समाचार/एम ओवैस/मोहम्मद शहजाद