अभिव्यक्ति की आजादी और शांतिपूर्ण प्रदर्शन सबसे जरूरी मानवाधिकार: ग्रेटा थनबर्ग

अभिव्यक्ति की आजादी और शांतिपूर्ण प्रदर्शन सबसे जरूरी मानवाधिकार: ग्रेटा थनबर्ग
freedom-of-expression-and-peaceful-demonstration-are-the-most-important-human-rights-greta-thunberg

नई दिल्ली, 19 फरवरी (हि.स.)। पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग शुक्रवार को फ्राईडेज फॉर फ्यूचर इंडिया की कार्यकर्ता दिशा रवि के समर्थन में आई हैं। हाल ही में दिशा रवि की गिरफ्तारी पर ग्रेटा का कहना है कि अभिव्यक्ति की आजादी और धरने का अधिकार सबसे जरूरी है जिससे समझौता नहीं किया जा सकता। किसान आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर माहौल तैयार करने के लिए बनाए गए टूल किट से जुड़े मामले में दिशा रवि वर्तमान में जेल में बंद है। फ्राईडेज फॉर फ्यूचर इंडिया की ओर से आए एक बयान को रिट्वीट करते हुए ग्रेटा थनबर्ग ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी और शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन करने एवं एकत्रित होना ऐसा मानवाधिकार है जिससे समझौता नहीं किया जा सकता। इससे पहले फ्राईडेज फॉर फ्यूचर इंडिया की ओर से दिशा रैली के साथ एकजुटता दिखाने से जुड़ा एक बयान आया था। इस बयान में पर्यावरण कार्यकर्ता के तौर पर दिशा रवि की प्रशंसा की गई है और कहा गया है कि संगठन किसी भी तरह की हिंसा का विरोध करता है। बयान में यह भी कहा गया है कि संगठन जलवायु न्याय के मुद्दे पर काम करता रहेगा। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप

अन्य खबरें

No stories found.