दिल्ली हिंसा: कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां की याचिका हाई कोर्ट में खारिज
दिल्ली हिंसा: कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां की याचिका हाई कोर्ट में खारिज
देश

दिल्ली हिंसा: कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां की याचिका हाई कोर्ट में खारिज

news

नई दिल्ली : दिल्ली हाई कोर्ट ने कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां की अपने खिलाफ दर्ज मामले में पुलिस को जांच पूरी करने के लिए और वक़्त देने के ट्रायल कोर्ट के आदेश को चुनौती देनेवाली याचिका खारिज कर दी है। जस्टिस सुरेश कैत की बेंच ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये याचिका खारिज करने का आदेश दिया। कोर्ट ने 20 जुलाई को दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने कहा कि इस याचिका में कोई मेरिट नहीं है। पिछली 7 जुलाई को हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा को स्टेटस रिपोर्ट दायर करने की मंजूरी दे दी थी। मेहरा ने केंद्र के वकील की ओर से स्टेटस रिपोर्ट दायर किए जाने का विरोध किया था। इशरत जहां की याचिका का विरोध करते हुए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कहा है कि चार्जशीट दाखिल करने के लिए समय बढ़ाने के लिए उचित कारण हैं। सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने इशरत जहां की याचिका जुर्माने के साथ खारिज करने की मांग की। हाई कोर्ट ने पिछली 24 जून को दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया था। इशरत जहां की ओर से वकील ललित वालेचा और मनु शर्मा ने पटियाला हाउस कोर्ट के उस आदेश पर रोक लगाने की मांग की, जिसमें हिंसा की साजिश रचने के मामले में चार्जशीट दाखिल करने के लिए दो महीने का और समय दिया गया है। उन्होंने कहा कि ट्रायल कोर्ट का फैसला गलत है। यह जनतांत्रिक और मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है। त्वरित और निष्पक्ष न्याय पाना न्याय प्रणाली का मौलिक गुण है। याचिका में कहा गया है कि पटियाला हाउस कोर्ट के एडिशनल सेशंस जज धर्मेंद्र राणा ने पिछली 17 जून को स्पेशल सेल की अर्जी पर यह आदेश दिया था। याचिका में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस ने कानून का दुरुपयोग किया है। चार्जशीट दाखिल करने के लिए समय बढ़ाने की मांग करना न्यायसंगत नहीं है। याचिका में इशरत जहां के खिलाफ अतिरिक्त धाराएं लगाने पर सवाल उठाया गया है, क्योंकि वह केवल शांतिपूर्ण प्रदर्शन की पक्षधर थी। स्पेशल सेल ने दिल्ली हिंसा मामले में साजिश रचने के आरोप में यूएपीए के तहत इशरत जहां, खालिद सैफी, सफूरा जरगर, गुलफिशा फातिमा, नताशा नरवाल, देवांगन कलीता और ताहिर हुसैन के नाम एफआईआर दर्ज की है। ये सभी आरोपी फिलहाल जेल में बंद हैं। स्पेशल सेल ने एफआईआर में जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद का भी नाम लिया है लेकिन अभी तक उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है। स्पेशल सेल के मुताबिक उमर खालिद ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत आगमन के पहले अन्य आरोपियों के साथ दिल्ली में दंगों की साजिश रची थी।-newsindialive.in