उप्र में पहली बार ग्राम प्रधानों व किसानों का होगा अपना पंचायत भवन

 उप्र में पहली बार ग्राम प्रधानों व किसानों का होगा अपना पंचायत भवन
for-the-first-time-in-up-village-heads-and-farmers-will-have-their-own-panchayat-building

- गांव में बैठकों का आयोजन, किसानों की समस्याओं का निस्तारण करना होगा आसान - उत्तर प्रदेश की 51914 ग्राम पंचायतों में से 33338 में पंचायत भवन बनकर हुए तैयार लखनऊ, 22 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश में पहली बार लगभग सभी ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधानों और किसानों को उनका अपना पंचायत भवन मिलने जा रहा है। 51 हजार 914 ग्राम पंचायतों में से 33 हजार 338 में पंचायत भवन बनकर तैयार हो चुके हैं। 18576 का निर्माण कार्य तेजी से पूरा किया जा रहा है। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने मंगलवार को बताया कि पिछली सरकारों में कभी ग्राम पंचायतों में पंचायत भवनों के निर्माण पर जोर नहीं दिया गया। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद उन्होंने बराबर किसानों के हित की योजनाओं को आगे बढ़ाया। गांव के विकास से लेकर किसानों को बीमारी से बचाने के लिये उनके प्रयासों की देश में ही नहीं दुनिया में भी तारीफ पाई। प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार ने ग्राम पंचायतों की व्यवस्था को मजबूत करने के लिये पंचायत भवनों के निर्माण पर जोर दिया है। आधे से अधिक ग्राम पंचायतों को उनका अपना पंचायत भवन मिलना संभव हो सका है। भवन में एक बैठक हॉल, दो कार्यालय कक्ष, कर्मी आवास, बरामदा व शौचायल का निर्माण कराया गया है। पंचायत भवनों में कार्यालय, ग्राम सभा के पदाधिकारियों की बैठकें, किसानों और ग्राम प्रधान के बीच संवाद आदि सहजता से हो सकेगा। किसानों को भी ग्राम प्रधान व सदस्यों तक अपनी बात पहुंचाना आसान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत स्तर पर बनीं नियोजन एवं विकास समिति, शिक्षा समिति, प्रशासनिक समिति, निर्माण कार्य समिति, स्वास्थ्य एवं कल्याण समिति और जल प्रबंधन समिति के सदस्यों को गांव के विकास के लिये महत्वपूर्ण बैठकें करना और निर्णयों को साकार रूप देने में मदद मिलेगी। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश/सुनीत

अन्य खबरें

No stories found.