बंगाल में अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ प्राथमिकी

बंगाल में अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ प्राथमिकी
fir-against-actress-kangana-ranaut-in-bengal

कोलकाता, 04 मई (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद बेलगाम हिंसा को लेकर लगातार ट्वीट की वजह से अभिनेत्री कंगना रनौत का अकाउंट पहले ही ट्विटर ने सस्पेंड कर दिया है। अब कोलकाता में उनके खिलाफ लिखित शिकायत भी दर्ज कराई गई है। आरोप है कि सोशल मीडिया के जरिए वह बंगाल में कानून व्यवस्था की परिस्थिति बिगाड़ने की कोशिश कर रही थीं। एक वकील ने कोलकाता पुलिस मुख्यालय में लिखित तहरीर दी है। बंगाल चुनाव की मतगणना के दिन अभिनेत्री कंगना रनौत ने कई ट्वीट किए थे और राष्ट्रीय नागरिक पंजी(एनआरसी), संशोधित नागरिकता कानून(सीएए) से लेकर रोहिंग्या और बाहरी के मुद्दे पर मुख्यमंत्री व तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी पर निशाना साधा था। इसे लेकर एक वकील ने उनके खिलाफ कलकत्ता पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। वकील ने अपनी तहरीर मे लिखा है कि कंगना बंगाल में कानून-व्यवस्था बिगाड़ना चाहती हैं। वह मुंबई की रहने वाली हैंं और पेशे से सिल्वर स्क्रीन अभिनेत्री, लेकिन अभी उनके ट्विटर वॉल पर एकमात्र बंगाल चुनाव है। आरोप है कि रविवार को बंगाल में मतगणना शुरू होने के बाद से उन्होंने कई ट्वीट किए। उनमें बंगाल की तुलना कश्मीर से की गई। वहीं ममता बनर्जी का 'रावण' बताकर मजाक उड़ाया गया। तृणमूल चुनाव जीतने के बाद तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है। कंगना ने इस संदर्भ में कई ट्वीट किए हैं। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि बांग्लादेशी और रोहिंग्या ममता बनर्जी की असली ताकत हैं। आंकड़ों के अनुसार, बंगाल में अब हिंदू बहुसंख्यक नहीं हैं और बंगाली मुसलमान भारत में सबसे गरीब हैं। बंगाल को एक और कश्मीर बनाया जा रहा है। कंगना यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर तृणमूल कांग्रेस पर निशाना साधा। आरामबाग में भाजपा के पार्टी कार्यालय में आग लगने की खबर पर एक ट्वीट का जवाब देते हुए उन्होंने लिखा कल से बंगाल में खूनखराबा होगा। कंगना ने एकबार फिर ट्विटर पर अमित शाह को टैग करके बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं को बचाने की अपील की। ममता की टीम की जीत की घोषणा के बाद कंगना ने उन्हें बधाई देते हुए ट्वीट किया, लेकिन उस ट्वीट में भी तीखे तेवर थे। उन्होंंने लिखा था कि ममता 2019 में लोकसभा चुनाव में हारने के बावजूद इस विधानसभा चुनाव में एक बाघ की तरह लड़ाई लड़ी हैं। गृहमंत्री के हेलीकॉप्टर को उतरने की अनुमति नहीं थी। सीएए, एनआरसी अटक गया। पीएम मोदी से खेल की बात कहती है। बिल्कुल खुले तौर पर शरणार्थियों को शरण दिया जा रहा है उन्हें वोटर कार्ड दिए। लोकतंत्र यहां मजाक है। फिर भी मैं ममता बनर्जी को सलाम करती हूं। क्योंकि अगर आपको खलनायक बनना है, तो ममता की तरह बनें। रावण की तरह लड़ो। राहुल गांधी की तरह नहीं। ममता को जीतना चाहिए। इन्हीं ट्वीट् को लेकर शिकायत दर्ज कराई गई है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश