दस सालों में देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में 275 बिलियन डॉलर का होगा कारोबार: डॉ. हर्षवर्धन
दस सालों में देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में 275 बिलियन डॉलर का होगा कारोबार: डॉ. हर्षवर्धन
देश

दस सालों में देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में 275 बिलियन डॉलर का होगा कारोबार: डॉ. हर्षवर्धन

news

- डॉ. हर्षवर्धन ने ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री से की बात नई दिल्ली, 14 जुलाई(हि.स.)। केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेगरी एंड्रियू हंट से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात की। दोनों मंत्रियों के बीच कोरोना से निपटने के कारगर उपायों और बेहतर प्रबंधन में सहयोग करने पर सहमति हुई। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच स्वास्थ्य और दवाओं के क्षेत्र में परस्पर सहयोग करने के संबंध में 10 अप्रैल 2017 को समझौता हुआ था। इस समझौते के मद्देनजर दोनों देश फैलने वाली बीमारियां जैसे मलेरिया और टीबी की रोकथाम में आपसी सहयोग, बीमारियों को खत्म करने की सांझा योजनाएं तैयार करने से लेकर उनके क्रियान्वयन तक एक साथ मिल कर काम करेंगे। इस मौके पर डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया की स्वास्थ्य सेवाएं विकसित देशों में सबसे बेहतर है। भारत भी स्वास्थ्य क्षेत्र में तेजी से विकास कर रहा है। आने वाले दस सालों में यह क्षेत्र विकसित हो कर 275 बिलियन डॉलर का हो जाएगा। देश की घरेलू मांग बढ़ेगी व शोध में काफी संभावनाएं बनेगी और मेडिकल टूरिज्म भी तेजी से विकसित होगा। भारत की पारंपरिक स्वास्थ्य प्रणाली जैसे आयुर्वेद और योगा का लाभ ऑस्ट्रेलिया के नागरिकों को मिल पाएगा और वे भी योग के जरिए मोंटापा दूर कर पाएंगे। ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेगरी हंट ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रति भरोसा कायम हुआ है। उन्होंने कहा कि आस्ट्रेलिया की यूनिवर्सल टेलीमेडिसिन ने अभी तक 19 मिलियन मामलों का निपटान किया है। सार्वजनिक एवं निजी अस्पतालों के जरिये स्वास्थ्य अवसंरचना तथा मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों पर इसका फोकस ऐसे माडल हैं जिनका अनुकरण किया जाना चाहिए। दुनिया में किफायती जेनेरिक दवाओं की आपूर्ति भारत करता है, जो विश्व की दवाओें की 66 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि भारत जिनोमिक्स एवं स्टेम सेल टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए दुर्लभ रोगों के लिए नई औषधियों का अनुसंधान करने में आस्ट्रेलिया की सहायता कर सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/विजयलक्ष्मी/सुनीत-hindusthansamachar.in