तमिलनाडु में डोर-टू-डोर स्वास्थ्य शिविर शुरू किया गया

 तमिलनाडु में डोर-टू-डोर स्वास्थ्य शिविर शुरू किया गया
door-to-door-health-camp-launched-in-tamil-nadu

चेन्नई, 16 नवंबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग ने लोगों में मानसून से संबंधित बीमारियों से निपटने के लिए घर-घर जाकर स्वास्थ्य शिविर शुरू किए हैं। अक्टूबर में पूर्वोत्तर मानसून के राज्य में आने के बाद, राज्य में भारी बारिश हुई, जिससे मानसून से जुड़ी कई बीमारियाँ सामने आईं है। डॉक्टरों और नर्सों सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की एक टीम ने राज्य के कई हिस्सों के निचले इलाकों में कई आवासों और आवासीय कॉलोनियों का निरीक्षण किया। टीम ने बारिश रुकने के बाद कई इलाकों में बारिश से होने वाली बीमारियों का जायजा लिया। अतिसार, बुखार, सामान्य सर्दी, और पैर के घाव प्रमुख बीमारियां हैं जो राज्य की राजधानी चेन्नई और आसपास के जिलों कांचीपुरम, तिरुवल्लूर और चेंगलपट्टू सहित राज्य के कई हिस्सों में पैदा हो रही हैं क्योंकि इन जिलों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। इन जिलों के कई हिस्से जलमग्न हो गए हैं, जिससे बुखार और डायरिया फैल रहा है। इन क्षेत्रों में आम सर्दी और पैरों के घावों ने भी बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित किया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मा सुब्रमण्यम ने आईएएनएस को बताया कि मैंने सोमवार को खुद पेरुंगुडी के कुछ इलाकों का दौरा किया है। डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम बीमारी की निगरानी कर रही है और तुरंत दवाएं उपलब्ध करा रही है। विभाग मानसून के मौसम में प्रतिदिन 500 स्वास्थ्य शिविर आयोजित करने की योजना बना रहा है। राज्य ने पहले ही महत्वाकांक्षी योजना मक्कलाई थेदी मारुथुवम शुरू कर दी है, जो लोगों के दरवाजे पर चिकित्सा देखभाल प्रदान करने वाली एक योजना है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने 4 अगस्त, 2021 को कृष्णागिरी जिले में योजना लॉन्च की थी। जिसके बाद 37 लाख से अधिक लोगों को इसका लाभ मिला। इस योजना का उद्देश्य विकलांग लोगों को चिकित्सा सहायता प्रदान करना है। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.