तमिलनाडु में डीएमके और पुडुचेरी में एनडीए के जीतने के संकेत : सर्वे

 तमिलनाडु में डीएमके और पुडुचेरी में एनडीए के जीतने के संकेत : सर्वे
dmk-in-tamil-nadu-and-nda-winning-signs-in-puducherry-survey

नई दिल्ली, 29 अप्रैल (आईएएनएस)। आखिरकार वो घड़ी आ गई जिसका सबको इंतजार था। टाइम्स नाऊ/एबीपी न्यूज-सी वोटर एग्जिट पोल के अनुसार, भाजपा नेतृत्व वाला एनडीए पुडुचेरी में जीत हासिल कर रहा है, असम में कड़ी टक्कर के बाद बमुश्किल एनडीए वापसी करता नजर आ रहा है, वहीं तमिलनाडु में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ रहा है, जबकि ममता बनर्जी की नेतृत्व वाली टीएमसी पश्चिम बंगाल को फिर से जीतने में कामयाब होती नजर आ रही है और पिनाराई विजयन के नेतृत्व वाला एलडीएफ केरल में क्लीन स्वीप कर रहा है। टाइम्स नाऊ/एबीपी न्यूज-सी वोटर एग्जिट पोल के अनुसार, सर्वेक्षण के निष्कर्ष और अनुमान मतदान के दिन और मतदान के बाद राज्यों के वयस्कों के बीच आयोजित किए गए, व्यक्तिगत साक्षात्कारों पर आधारित हैं। सभी मतदाताओं की पुष्टि की गई। सी-वोटर के संस्थापक और सेफोलॉजिस्ट यशवंत देशमुख ने कहा, डेटा को राज्यों की ज्ञात जनसांख्यिकीय प्रोफाइल पर लिया गया है। हम मानते हैं कि यह एक दम करीब के रुझान होंगे। टाइम्स नाउ / एबीपी न्यूज के लिए दिल्ली स्थित मतदान एजेंसी सी-वोटर के एग्जिट पोल ने इस सर्वेक्षण में बताया कि ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल को जीतने के लिए तैयार हैं, यहां तक कि भाजपा को 109 से 121 सीटों पर जीतने की संभावना है, जबकि एमके स्टालिन नेतृत्व वाली डीएमके भारी मतों से तमिलनाडु जीतेंगे। असम में एग्जिट पोल सर्वे का नमूना आकार 28,393, तमिलनाडु में 43,630, पुदुचेरी में 5,003, केरल में 26,447 और पश्चिम बंगाल में 85,000 था। देशमुख ने यह भी कहा कि एनालिटिक्स के लिए उन्होंने स्प्लिट-वोटर के आधार पर प्रांतीय और क्षेत्रीय वोट शेयर की गणना के लिए मालिकाना एल्गोरिदम का उपयोग किया। समान एल्गोरिथ्म का उपयोग वोट शेयर अनुमानों को रेंज में संभावित सीट शेयर में शामिल करने के लिए किया जाता है। सी-वोटर एग्जिट पोल डेटा कलेक्शन मतदान प्रक्रिया के ठीक बाद शुरू होता है और चुनाव खत्म होने तक जारी रहता है। उन्होंने कहा, एक राज्य के लिए हम सभी विधानसभा क्षेत्रों में बेतरतीब ढंग से चयनित मतदान केंद्र पर साक्षात्कार आयोजित करते हैं। तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में 6 अप्रैल को मतदान हुआ। पश्चिम बंगाल में 27 मार्च से 29 अप्रैल तक आठ चरणों में मतदान हुए हैं, जबकि असम में 27 मार्च से 6 अप्रैल तक तीन चरणों में मतदान हुए। --आईएएनएस एचके/एएनएम