दिल्ली हिंसा: भजनपुरा में तोड़फोड़ के आरोपित सुहैल को मिली जमानत

दिल्ली हिंसा: भजनपुरा में तोड़फोड़ के आरोपित सुहैल को मिली जमानत
दिल्ली हिंसा: भजनपुरा में तोड़फोड़ के आरोपित सुहैल को मिली जमानत

- कोर्ट ने आरोपित को अपने मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने का निर्देश दिया नई दिल्ली, 25 जुलाई (हि.स.)। दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा के दौरान भजनपुरा में तोड़फोड़ करने और वाहनों को नुकसान पहुंचाने के आरोपित सुहैल को जमानत दे दी है। शनिवार को कोर्ट ने कहा कि पुलिस की चार्जशीट में एकमात्र आरोपित सुहैल है और वो सीसीटीवी या वायरल वीडियो में कहीं नहीं दिख रहा है। कोर्ट ने सुहैल को 20 हजार रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दी। कोर्ट ने उसे अपने मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने का निर्देश दिया। कोर्ट ने सुहैल को जेल से रिहा होने के बाद अपना फोन नंबर भजनपुरा थाने के एसएचओ को उपलब्ध कराने, साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ नहीं करने, गवाहों को प्रभावित नहीं करने, इलाके में शांति से रहेगा और कोर्ट में सुनवाई के दौरान हर तिथि को पेश होने के निर्देश दिए। सुहैल की जमानत का विरोध करते हुए स्पेशल पब्लिक प्रोसिक्युटर राजीव किशन शर्मा ने कहा कि एएसआई वेदपाल 24 फरवरी को हिंसा के समय घटनास्थल पर मौजूद थे। उस समय उन्होंने देखा कि वाहनों को नुकसान पहुंचाया जा रहा था। आरोपी की एएसआई वेदपाल से नोकझोक हो गई, जिसके बाद वह और ज्यादा उग्र हो गया और दूसरे समुदाय के खिलाफ नारे लगाने लगा। कोर्ट ने कहा कि आरोपी को सीसीटीवी फुटेज या वायरल वीडियो में कहीं नहीं देखा गया है। जांच एजेंसी ने कई उन लोगों के बयान दर्ज किए थे जिनके वाहन और संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया था। लेकिन किसी ने भी आरोपी का न तो नाम लिया था और न ही पहचान की थी। जांच अधिकारी द्वारा पहचाने जाने का कोई महत्व नहीं है, क्योंकि जब उसने आरोपी को देखा तो थाने में सूचना क्यों नहीं दी? 24 फरवरी की घटना की जांच अधिकारी ने दैनिक डायरी में भी कोई एंट्री नहीं की थी। आरोपी को घटनास्थल से गिरफ्तार भी नहीं किया गया था। कोर्ट ने कहा कि वो याचिकाकर्ता के वकील से सहमत है कि ट्रायल लंबा खिंच सकता है और ऐसे में आरोपी को हिरासत में रखने का कोई मतलब नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत/बच्चन-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.