सागर हत्याकांड जांच के मामले में फेल हो रही क्राइम ब्रांच

सागर हत्याकांड जांच के मामले में फेल हो रही क्राइम ब्रांच
crime-branch-failing-in-sagar-murder-case-investigation

नई दिल्ली, 08 जून (हि.स.)। उत्तर पश्चिमी जिले के मॉडल टाउन इलाके स्थित छत्रसाल स्टेडियम में सागर की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के हाथों में एक महीने के बाद भी कुछ ठोस साक्ष्य हाथ नहीं लगा है। इसके साथ ही करीब 10 से ज्यादा आरोपित फरार चल रहे हैं। वहीं अभी तक हुई कुल नौ गिरफ्तारियों में केवल दो आरोपियों को क्राइम ब्रांच ने पकड़ा है। जबकि अन्य सात आरोपितों को अन्य पुलिस यूनिट ने पकड़ा है। वहीं जांच की बात करे तो मामले से जुड़े अधिकांश साक्ष्य स्थानीय पुलिस ने ही जुटाए हैं। जांच के दौरान क्राइम ब्रांच को सुशील के कपड़े और मोबाइल भी बरामद नहीं हुए। जानकारी के अनुसार, बीते चार मई की देर रात छत्रसाल स्टेडियम में सागर धनखड़, सोनू महाल और आमित को पीटा गया था, जिसके अगले दिन सागर ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था और इस बावत मॉडल टाउन थाने में हत्या का केस दर्ज किया गया था। जिसमें मुख्य आरोपित सुशील पहलवान को बनाया गया था। हत्याकांड के दिन ही मौके से स्थानीय पुलिस ने प्रिंस नामक आरोपित को गिरफ्तार किया था। उसके मोबाइल से घटना का वीडियो भी स्थानीय पुलिस ने बरामद किया था जिसकी एफएसएल जांच में पाया गया कि वीडियो से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं हुई है। केवल दो आरोपित ही हुए गिरफ्तार उक्त हत्याकांड में पहली गिरफ्तारी प्रिंस की स्थानीय पुलिस ने की। वहीं सुशील पहलवान और उसके साथी अजय को स्पेशल सेल ने मुंडका से गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई। अगले दिन रोहिणी जिला पुलिस ने हत्याकांड के चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। उधर इस मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने भी छापेमारी शुरू की। सुशील को लेकर क्राइम ब्रांच की टीम भटिंडा, हरियाणा, छत्रसाल स्टेडियम और हरिद्वार में जांच के लिए ले गई, लेकिन इससे कोई महत्वपूर्ण साक्ष्य या फरार चल रहा आरोपित उनके हाथ नहीं लगा। पुलिस सूत्रों की मानें तो इस हत्याकांड में अहम सुराग भी स्थानीय पुलिस ने ही जुटाए हैं। कॉल डिटेल निकालने से लेकर आरोपितों की लोकेशन निकालने का काम भी स्थानीय पुलिस ने किया था। मजबूत आरोपपत्र तैयार करना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती ज्ञात हो कि अभी तक की जांच के आधार पर कोई महत्वपूर्ण साक्ष्य तलाशने में नाकाम रही क्राइम ब्रांच के लिए एक मजबूत आरोप पत्र दाखिल करना बड़ी चुनौती होगी। पांच अगस्त तक इस मामले में आरोप पत्र दाखिल होना है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा