राजकोट में कोरोना बेकाबू, 24 घंटे में 55 की मौत, ट्रांसपोर्टर्स ने किया तीन दिन का लाॅकडाउन

राजकोट में कोरोना बेकाबू, 24 घंटे में 55 की मौत, ट्रांसपोर्टर्स ने किया तीन दिन का लाॅकडाउन
corona-uncontrollable-in-rajkot-55-dead-in-24-hours-transporters-lockdown-for-three-days

राजकोट/अहमदाबाद,14 अप्रैल (हि.स.)। गुजरात के साथ ही राजकोट में भी कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। शहर के सभी अस्पताल कोरोना मरीजों से भरे पड़े हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोना से 55 लोगाें की मौत होने से स्वास्थ्य विभाग भी चिंतित है। पिछले दो दिन में राजकोट में कोरोना से 114 लोगों की मौत हो चुकी है। अस्पतालों में शवों की कतार लगी है। राजकोट में आज दोपहर तक कोरोना के 302 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसी बीच राजकोट ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने तीन दिन के लिए स्वैच्छिक लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। कोरोना संकट को देखते हुए राजकोट ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने नगर में 16, 17 और 18 अप्रैल को तीन दिन का स्वैच्छिक पूर्ण लॉकडाउन का निर्णय लिया है। राजकोट के लगभग 700 ट्रांसपोर्ट व्यवसायी तीन दिन तक अपना व्यवसाय बंद रहेंगे। इससे व्यापारियों को लाखों रुपये का नुकसान होगा। इसके अलावा गौरीदल गांव में 16 से 21 अप्रैल तक स्वैच्छिक लॉकडाउन करने का ऐलान किया है। यदि किसी ग्रामीण ने अपनी दुकान खोली तो उस पर एक हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। इसके साथ ही बेडी मार्केटिंग यार्ड को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया गया है। राजकोट मार्केट यार्ड के अध्यक्ष डीके सखिया और उनका पोता की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। राजकोट नगर निगम का स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमितों को उनको गृह एकांतवास में ही जरूरी सेवाएं दे रहा है। नगर निगम 75 संजीव रथों के माध्यमों से लोगों की सेवा कर रहा है। जिसके माध्यम से गृह एकांतवास में रह रहे रोगियों की नियमित जांच की जा रही है और उन्हें जरूरी सुविधाएं मुहैया करा रहा है। आपातकाल में रोगी के 108 पर कॉल करने पर उसे अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि बुधवार दोपहर तक राजकोट में कोरोना के 302 नए मामले दर्ज किए गए हैं। मंगलवार को कोरोना के 529 मामले सामने आए थे। पिछले 24 घंटे में कोरोना से 55 लोगाें की मौत हुई है। शहर में अब तक कोरोना के मामलों की संख्या 23,668 हो चुकी है। हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष शाह