कोने में दुबका कोरोना, नजर आने लगी जिंदगी

 कोने में दुबका कोरोना, नजर आने लगी जिंदगी
corona-lurking-in-the-corner-life-started-appearing

लखनऊ, 11 जून (आईएएनएस)। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ते प्रसार पर अब रोक लग गयी है। कोरोना अब कोनों में दुबक कर बैठ गया है। कोरोना को कोने में करने के बाद सरकार ने गत दिनों पूरे सूबे को कोरोना कर्फ्यू से मुक्त करने की घोषणा की। इसके साथ ही सूनी पड़ी सड़कों और बाजारों में जिदंगी नजर आने लगी। कोरोना के चरम से तुलना करेंगे तो इस मुश्किल जंग की तस्वीर और साफ हो जाएगी। आबादी के लिहाज से देश का सबसे बड़े सूबे ने जितने कम समय में कोरोना पर बेहद प्रभावशाली तरीके से नियंत्रण पाया वह किसी कमाल से कम नहीं है। कोरोना के कंट्रोल में यूपी ने वाकई कमाल किया है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में कोविड संक्रमण के 642 नए केस आए। 24 अप्रैल को यह संख्या 38055 के रिकॉर्ड स्तर पर थी। 30 अप्रैल को सक्रिय केसेज की संख्या सर्वाधिक 3 लाख 10 हजार से ऊपर थी। पिछले 24 घंटे में यह संख्या घटकर 12244 पर आ गई। रिकवरी दर लगातार सुधरते हुए 98 फीसद हो गई है। पॉजिटिविटी दर मात्र 0.3 फीसद रह गई है। इसी अवधि में 1231 लोग स्वस्थ हुए। तीन जिलों महोबा,कासगंज और चित्रकूट में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला। बाकी में यह संख्या दहाई और इकाई में ही रही। सर्वाधिक संक्रमण के नए केस वाराणसी,लखनऊ और गोरखपुर में क्रमश: 38, 37 और 30 रहे। कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के बावजूद सरकार सतर्क है। बावजूद सीएम ने लोगों से अपील की है कि अब जब हालात सामान्य सामान्य हो रहे है तब हर प्रदेशवासी की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। लोगों को यह समझना होगा कि वायरस कमजोर हुआ है, खत्म नहीं हुआ। संक्रमण कम हुआ है, पर जरा सी लापरवाही इसे फिर बढ़ा सकती है। सभी लोग मास्क, सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड बचाव के व्यवहार को जीवनशैली में शामिल करें। बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। भीड़ से बचें। --आईएएनएस विकेटी/आरजेएस