corona-began-to-scare-in-bengal-between-elections
corona-began-to-scare-in-bengal-between-elections
देश

चुनाव के बीच बंगाल में डराने लगी कोरोना की रफ्तार

news

कोलकाता, 08 अप्रैल (हि.स.)। चुनाव से गुजर रहे पश्चिम बंगाल में कोविड-19 महामारी की रफ्तार डराने लगी है। पिछले 24 घंटे के दौरान करीब ढाई हजार लोग इस महामारी की चपेट में आए हैं । राज्य स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने गुरुवार को हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि कोविड-19 महामारी की जब शुरुआत हुई थी, तब भी इसकी रफ्तार इतनी तेज नहीं थी। पूरे देश के साथ पश्चिम बंगाल में भी कोविड-19 की जो दूसरी लहर चली है, वह अधिक खतरनाक है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 24 घंटे के दौरान 29 हजार, 394 लोगों के सैंपल जांचे गए हैं , जिनमें से 2 हजार, 390 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। दिसंबर से लेकर फरवरी महीने तक राज्य में हर रोज 20 से 30 हजार लोगों के सैंपल जांच में महज 100- 200 लोग कोविड-19 पॉजिटिव होते थे। पश्चिम बंगाल में इस महामारी की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या बढ़कर छह लाख 24 हो गई है। चिंता वाली बात यह है कि पिछले 24 घंटे में महज 867 लोग ही स्वस्थ हुए हैं। अब तक स्वस्थ होकर घर लौटने वालों की कुल संख्या पांच लाख, 75 हजार, 371 है। कोरोना से एक दिन में 08 लोगों की मौत हुई है जिसके कारण मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 10 हजार, 363 पर जा पहुंची है। स्वस्थ हो चुके और मरने वाले लोगों की संख्या को निकालकर राज्य में पिछले 24 घंटे में एक्टिव मरीजों की संख्या में 1 हजार,515 की बढ़ोतरी हुई है और कुल 14 हजार, 290 लोग विभिन्न अस्पतालों में इलाजरत हैं। शनिवार तक यह आंकड़ा महज 8 हजार था। यानी 3 दिनों में छह हजार के करीब मरीज सामने आए हैं जो चिंता का कारण है। खास बात यह है कि फरवरी महीने के अंत तक एक्टिव मरीजों की संख्या महज 3 हजार रह गई थी जो एक बार फिर तेज रफ्तार से बढ़ने लगी है। चिंता वाली बात यह भी है कि बंगाल में चुनाव चल रहा है और बड़ी संख्या में लोग जनसभाओं में शामिल हो रहे हैं। इसकी वजह से विशेषज्ञों को कोरोना विस्फोट की चिंता सता रही है। जनवरी-फरवरी में जहां रिकवरी रेट बढ़ कर 98 फ़ीसदी के करीब पहुंच गई थी, वह गिरकर 95 पर आ गई है जो लगातार कम ही हो रही है। अब तक कुल 93 लाख 63 हजार 195 लोगों के सैंपल जांच हो चुके हैं। वर्तमान ट्रेंड के मुताबिक हर 100 लोगों में से 8-10 लोग पॉजिटिव हो रहे हैं और इस आंकड़े में लगातार बढ़ोतरी ही हो रही है। इसकी वजह से एक बार फिर बंगाल में इस महामारी के कहर बरपाने की आशंका प्रबल हो गई है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश / प्रभात ओझा