कांग्रेस का हनुमान चालीसा पाठ का आह्वान; प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- कांग्रेस का पट्टू कहता है भूमि पूजन में मुहूर्त अशुभ, हर हिंदू को याद है
कांग्रेस का हनुमान चालीसा पाठ का आह्वान; प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- कांग्रेस का पट्टू कहता है भूमि पूजन में मुहूर्त अशुभ, हर हिंदू को याद है
देश

कांग्रेस का हनुमान चालीसा पाठ का आह्वान; प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- कांग्रेस का पट्टू कहता है भूमि पूजन में मुहूर्त अशुभ, हर हिंदू को याद है

news

अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी जाएगी, इससे पहले मध्य प्रदेश में राम मंदिर को लेकर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस नेताओं ने मंगलवार को घरों और मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करने आह्वान किया है। इधर, भोपाल की भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने ट्वीट कर कहा है कि श्री राम के अस्तित्व को नकारने वाली कांग्रेस अब राम उत्सव मनाएगी। कांग्रेस का पट्टू कहता है हर हिंदू राम मंदिर के साथ है- अरे वाह सुप्रीम कोर्ट में जान की बाजी लगाकर मंदिर निर्णय रुकवाने से लेकर भूमि पूजन में मुहूर्त अशुभ बताने तक का छल हर हिंदू को याद है। हालांकि, अभी प्रज्ञा ठाकुर के इस ट्वीट पर किसी कांग्रेस नेता ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दो दिन पहले अयोध्या में राम मंदिर के पक्ष में बयान दिया था। उनके कहने पर कांग्रेस ने आधारशिला से एक दिन पहले यानी मंगलवार को प्रदेशभर में हनुमान चालीसा का पाठ करने का आह्वान किया है। कमलनाथ उनके निवास पर चुनिंदा कांग्रेसजनों के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। उन्होंने कांग्रेस जनों से आह्वान किया है कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मंदिरों और घरों में हनुमान चालीसा का पाठ करें। हालांकि पार्टी इस आयोजन का उद्देश्य समृद्धि और कोरोना संकट से मुक्ति का मार्ग प्रशस्त होना बता रही है। इधर, मप्र कांग्रेस ने टवीट किया है कि धर्म से संस्कृति, संस्कृति से आस्था, आस्था से बढ़े कदम, विकास बना रास्ता। सबका मान, सबका सम्मान, सबकी सहमति सबका कल्याण। जतन में राम, वतन में राम, रामराज लाए बिना, हमें कहां विश्राम। दिग्विजय बोले- भगवान राम ही हैं हमारी आस्था के केंद्र दिग्विजय सिंह ने कहा कि हमारी आस्था के केंद्र भगवान राम ही हैं और आज देश भगवान भरोसे ही चल रहा है। हम सभी चाहते हैं कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर बने। राजीव गांधी भी यही चाहते थे। उन्होंने मंदिर के शिलान्यास के मुहूर्त पर सवाल उठाया और कहा बिना मुहूर्त के शिलान्यास किया जा रहा है जो धार्मिक भावना और मान्यताओं के साथ खिलवाड़ है। राम हमारी आस्था के केंद्र हैं और आज समूचा देश भी राम भरोसे ही चल रहा है। इसीलिए हम सबकी आकांक्षा है कि जल्द से जल्द अयोध्या में भव्य मंदिर बने। मगर पांच अगस्त को कोई मुहूर्त नहीं है जबकि देश के 90 प्रतिशत से ज्यादा हिंदू मुहूर्त, ग्रहदशा, चौघड़िया के धार्मिक विज्ञान को मानते हैं।-newsindialive.in