कैबिनेट : खरीफ फसलों के एमएसपी में इजाफा

कैबिनेट : खरीफ फसलों के एमएसपी में इजाफा
cabinet-increase-in-msp-of-kharif-crops

नई दिल्ली, 09 जून (हि.स.)। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को कई खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोत्तरी को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति ने इस प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कैबिनेट के निर्णयों की जानकारी देते हुए कहा कि धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1868 प्रति क्विंटल से बढ़ाकर वर्ष 2021-22 के लिए 1940 कर दिया गया है। इसी तरह बाजरा और दालों के समर्थन मूल्य में भी बढ़ोतरी की गई है। न्यूनतम समर्थन मूल्य को जारी रखने की सरकारी प्रतिबद्धता को दोहराते हुए तोमर ने कहा कि वर्तमान प्रक्रिया पहले की भांति ही जारी रहेगी। इस विषय पर किसी को भी कोई गलतफहमी नहीं होनी चाहिए। सरकार लगातार इसमें इजाफा भी कर रही है। आज घोषित दामों में बढ़ोत्तरी इस प्रकार है- धान (सामान्य) 1868 से 1940, धान (ग्रेड ए) 1888 से 1960, ज्वार (संकर) 2620 से 2736, ज्वार (मालदंडी) 2640 से 2758, बाजरा 2150 से 2250, रागी 3295 से 3377, मक्का 1850 से 1870, अरहर (अरहर) 6000 6300, मूंग 7196 से 7275, उड़द 6000 से 6300, मूंगफली 5275 से 5550, सूरजमुखी के बीज 5885 से 6015, सोयाबीन (पीला) 3880 से 3950, तिल 6855 से 7307, नाइजरसीड 6695 से 6930, कपास (मध्यम स्टेपल) 5515 से 5726, कपास (लंबा स्टेपल) 5825 से 6025। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसान आरोप लगा रहे हैं कि सरकार धीरे-धीरे न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना को खत्म करना चाहती है। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप