बीटीसी प्रशासन ने पश्चिम बंगाल हिंसा पीड़ितों को प्रदान की राहत सामग्री

बीटीसी प्रशासन ने पश्चिम बंगाल हिंसा पीड़ितों को प्रदान की राहत सामग्री
btc-administration-provided-relief-material-to-victims-of-west-bengal-violence

कोकराझार, 07 मई (हि.स.)। प्रमोद बोडो नेतृत्वाधीन बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (बीटीसी) प्रशासन ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल से विधानसभा चुनाव के बाद उत्पन्न राजनीतिक हिंसा से जान बचाकर असम के राहत शिविरों शरण लेने वाले लोगों को राहत सामग्री प्रदान की। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के बाद असम-पश्चिम बंगाल सीमा पर बने राहत शिविरों में बड़ी संख्या में लोगों ने शरण ली है। बीटीसी की ओर से शुक्रवार को कार्यकारिणी सदस्य रंजीत बासुमतारी ने कोकराझार जिला के श्रीरामपुर स्थित एक राहत शिविर का दौरा किया और परेशान लोगों को भोजन व विभिन्न राहत सामग्री प्रदान की। बीटीसी प्रशासन की ओर से उठाए गये इस कदम की हिंसा प्रभावित लोगों ने प्रशंसा करते हुए ममता बनर्जी सरकार की जमकर आलोचना की। इस मौके पर प्रमोद बोडो की पार्टी के पदाधिकारियों ने कहा, 'हम ममता बनर्जी और उनकी पार्टी की इस तरह की राजनीतिक हिंसा और नरसंहार में लिप्त होने की कड़ी निंदा करते हैं। प्रमोद बोरो ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर कहा, भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में ऐसी हिंसा बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है और इसे हर कीमत पर रोकना होगा। प्रमोद बोडो की पार्टी यूपीपीएल के एक पदाधिकारी ने कहाकि लोकतंत्र में लोगों को अपनी बातें रखने, अपना मत व्यक्त करने का पूरी अधिकार है। ऐसे में किसी एक पार्टी के विचारों से प्रभावित न होने वाले लोगों के साथ हिंसा करना सही अर्थों में भारत जैसे लोकतांत्रिक देश के लोकतांत्रिक मूल्यों की हिंसा करने के समान है। इसको हर हलात में रोकना चाहिए तथा इस तरह की हिंसा में लिप्त लोगों को गिरफ्तार कर उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो सके। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद