भूटान ने दिखाई अपने स्कूलों में दिल्ली के एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम को अपनाने की जिज्ञाषा

 भूटान ने दिखाई अपने स्कूलों में दिल्ली के एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम को अपनाने की जिज्ञाषा
bhutan-shows-eagerness-to-adopt-delhi39s-entrepreneurship-mindset-curriculum-in-its-schools

नई दिल्ली,19 अप्रैल (आईएएनएस)। दिल्ली ने भूटान से भी सीखा है। जब दिल्ली के स्कूलों में हैप्पीनेस करिकुलम शुरू करने का सोचा गया, तो इसका प्रेरणा का स्रोत भूटान भी था। वहीं अब भूटान ने दिल्ली सरकार के स्कूलों के एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम के क्रियान्वयन को समझते हुए इसे अपने स्कूलों में शामिल करने की जिज्ञाषा दिखाई है। इस दिशा में मंगलवार को शिक्षा निदेशालय द्वारा भूटान के शिक्षा विभाग और वहां शिक्षा से जुड़े लोगों के लिए एक ओरिएंटेशन सेशन का आयोजन किया गया। इस ओरिएंटेशन में उन्हें एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम के क्रियान्वयन व उसकी सफलता के बारे में बताया गया। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि हमें खुशी है कि ऐसे शैक्षिक आदान-प्रदान से दोनों देश के संबंधों को और अधिक मजबूती मिलेगी व दोनों देशों को एक दूसरे से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। मनीष सिसोदिया ने कहा कि शिक्षा के इस आदान-प्रदान में हमने भूटान से भी सीखा है और जब हमने अपने स्कूलों में हैप्पीनेस करिकुलम शुरू करने का सोचा, तो हमारी प्रेरणा का स्रोत भूटान भी रहा था। साथ ही भूटान के इंक्लूसिव असेसमेंट सिस्टम से भी हमें बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि हमें खुशी होगी कि हमने जो सीखा है उसे भूटान के साथ साझा करें और मुझे पूरी उम्मीद है की इससे दोनों देशों के बीच अच्छे संबंध स्थापित होंगे। सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार का एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम व शैक्षिक आदान-प्रदान भारत-भूटान के रिश्तों में एक नया मील का पत्थर साबित होगा है। यह हमारे शिक्षा निदेशालय के लिए गर्व का मौका है। उन्होंने कहा कि दो देशों के शिक्षा विभागों के बीच का संबध सबसे जरूरी संबंध होता है और जब दोनों देश एक दूसरे के स्कूलों से, शिक्षा में किए गए उनके प्रयासों से सीखेंगे तो ये सही मायनों में दोनों देशों के बीच के सम्बन्ध को मजबूत बनाएगा। भूटान के डिपार्टमेंट ऑफ करिकुलम एंड प्रोफेशनल डेवलपमेंट के निदेशक वांगपो तेनजिन ने कहा कि दिल्ली के माइंडसेट प्रोग्राम का हम भूटान में स्वागत करते है। कोरोना ने हम सभी को अनिश्चितता का सबक सिखाया है। इसे ध्यान रखते हुए एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट जैसा करिकुलम हमारे युवाओं के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। ऐसे करिकुलम हमारे स्टूडेंट्स को स्किल्स, सोच, आइडियाज को बेहतर बनाने में मदद करेंगे ताकि वो खुद को एवम समाज को सपोर्ट कर सके। उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने कहा कि इकोनोमिकली वेल-इनफोर्मेड माइंडसेट के साथ ही हम एक मजबूत देश व समाज का निर्माण कर सकते है और ये तभी हो सकता है जब हमारी अगली पीढ़ी मानसिक और आर्थिक रूप से खुश व संपन्न हो। उन्होंने कहा कि आज दिल्ली के स्कूल इसका उदाहरण है कि कैसे अपनी अगली पीढ़ी को आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार किया जा सकता है। इस ओरिएंटेशन कार्यक्रम में भूटान में भारत के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन नितिन सुभाष येओला, भूटान के डिपार्टमेंट ऑफ करिकुलम एंड प्रोफेशनल डेवलपमेंट के निदेशक वांगपो तेनजिन, भूटान के एंत्रप्रेन्योरशिप एंड सेल्फ एम्प्लॉयमेंट डिवीजन के चीफ किनले दोरजी, दिल्ली के शिक्षा सचिव एच.राजेश प्रसाद, शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता, शामिल रहे। --आईएएनएस जीसीबी/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.