बैंक खातों की जांच डराने की रणनीति : बांग्लादेश के पत्रकार

 बैंक खातों की जांच डराने की रणनीति : बांग्लादेश के पत्रकार
bank-accounts-investigation-intimidating-strategy-bangladeshi-journalist

ढाका, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। बांग्लादेश बैंक की वित्त निगरानी एजेंसी बीएफआईयू ने संदिग्ध लेनदेन की जांच के लिए जिम्मेदार सभी बैंकों को 12 सितंबर को एक पत्र भेजकर 11 पत्रकार नेताओं के खातों का ब्योरा देने को कहा है। पत्रकार नेता इस कदम को डराने की रणनीति करार दे रहे हैं। जातीय प्रेस क्लब की अध्यक्ष फरीदा यास्मीन ने सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया, उनके बाद बीएनपी के नेता इलायस खान ने, जो जातीय (राष्ट्रीय) प्रेस क्लब के महासचिव हैं। बांग्लादेश के प्रमुख पत्रकार संघों के नेताओं ने बांग्लादेश फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट के पत्र को उनके बैंक खातों की जांच के आदेश को लक्षित बताया है। उन्होंने शनिवार को बांग्लादेश फेडरल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स, ढाका यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स, जातीय प्रेस क्लब और ढाका रिपोर्टर्स यूनिटी के संयुक्त बैनर तले आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस पहल को मीडिया के बीच डर पैदा करने की रणनीति कहा। रविवार दोपहर जातीय प्रेस क्लब के सामने धरना भी दिया गया। इसमें ढाका यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के बीएनपी समर्थित गुट के अध्यक्ष कादर गनी चौधरी और इसके महासचिव मोहम्मद शाहिदुल इस्लाम भी शामिल थे। सूची में शामिल पत्रकारों में से एक मोसिउर रहमान खान ने सभी 11 सदस्यों का एक संयुक्त बयान पढ़ा। फरीदा यास्मीन ने रविवार सुबह आईएएनएस को बताया कि बैंक खातों की जांच के लिए कोई सटीक कारण नहीं बताया गया है। आतंकवाद के लिए असामान्य लेनदेन या वित्तीय सहायता के बारे में केवल एक बार विशिष्ट आरोप हैं कि बैंक खातों की जांच शुरू की जानी चाहिए। लेकिन इस तरह के किसी भी आरोप का कोई संकेत नहीं है। मैंने सूचना मंत्री और सरकार के अन्य महत्वपूर्ण सदस्यों से बात की और उन्होंने कहा कि वे इस स्थिति के बारे में कुछ नहीं जानते हैं। देश भर में पेशेवर पत्रकारों द्वारा स्थापित शीर्ष संगठनों के नेताओं के बैंक खातों की जांच का निर्णय अभूतपूर्व है और पहले कभी नहीं हुआ। उन्होंने कहा, बेशक, किसी भी व्यक्ति या संगठन के खिलाफ विशिष्ट आरोपों पर एक जांच शुरू की जा सकती है। लेकिन हमारा मानना है कि पत्रकार संगठनों के शीर्ष निर्वाचित नेताओं के खिलाफ पूरे बोर्ड में जांच शुरू करने का यह निर्णय लक्षित है। मोसिउर ने निर्णय के स्पष्टीकरण के लिए कहा और कहा कि बीएफआईयू के मीडिया को उनके पत्र के बारे में जानकारी जारी करने के फैसले ने जनता और समाज की नजर में पत्रकार संगठनों और नेताओं की प्रतिष्ठा को धूमिल किया है। हालांकि, उन्होंने जांच में पाए गए किसी भी गलत काम के बारे में जनता को सूचित करने का भी आह्वान किया। अगर कोई सबूत पाया जाता है कि हमारा नेतृत्व असामान्य लेनदेन, या किसी भी प्रकार के मनी लॉन्ड्रिंग या आतंकवादियों को वित्तीय सहायता में शामिल था, तो इसे मीडिया को जारी किया जाना चाहिए। पत्रकार ने कहा कि लेकिन, अगर कोई सबूत नहीं मिलता है, तो जनता को उस मामले से अवगत कराया जाना चाहिए और इसे उतना ही महत्व दिया जाना चाहिए जितना उचित हो। बीएफयूजे के अध्यक्ष मोल्ला जलाल ने कहा कि पत्र भेजा गया था और उसके तुरंत बाद मीडिया में बैंक खाते की जांच की खबर दी गई थी, इसके तुरंत बाद उन्हें सूचना वापस भेज दी गई थी। इसका मतलब है कि पत्र का उद्देश्य उन व्यक्तियों और संगठनों को बदनाम करना है जिन्हें उसने लक्षित किया था। पत्रकारों में डर पैदा करने के लिए इस डराने की रणनीति का इस्तेमाल किया जा रहा है। हम मानते हैं कि यह स्पष्ट रूप से लक्षित है। हमारा मानना है कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए खतरा है। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.