महाकाल-ओंकारेश्वर की मिट्टी और शिप्रा का जल भेजा अयोध्या
महाकाल-ओंकारेश्वर की मिट्टी और शिप्रा का जल भेजा अयोध्या
देश

महाकाल-ओंकारेश्वर की मिट्टी और शिप्रा का जल भेजा अयोध्या

news

मुकेश तोमर उज्जैन, 27 जुलाई (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुख्य आतिथ्य में आगामी पांच अगस्त को भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या में भव्य राममंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन होगा। इस भूमिपूजन में मध्य प्रदेश के दोनों ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर और ओंकारेश्व की मिट्टी के साथ ही शिप्रा के जल का भी उपयोग होगा। इसके लिए सोमवार को विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने बाबा महाकाल और ओंकारेश्वर मंदिर की मिट्टी तथा शिप्रा नदी का जल अयोध्या भेजा है। विहिप के मालवा प्रांत के अध्यक्ष कांतिभाई पटेल ने बताया कि सोमवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे महाकाल व ओंकारेश्वर मंदिर की मिट्टी और शिप्रा के जल का पूजन किया गया और इसके बाद राममंदिर भूमिपूजन के लिए उसे अयोध्या भेजा गया। इसके अलावा महानिर्वाणी अखाड़े की ओर से बाबा महाकाल को चढ़ाने वाली भस्म के भी अयोध्या भेजी गई है। मालवा प्रांत अध्यक्ष पटेल ने बताया कि आगामी पांच अगस्त को अयोध्या में भव्य राममंदिर निर्माण के लिए आधारशिला रखी जाएगी, जिसमें देशभर के तीर्थ क्षेत्रों की मिट्टी और पवित्र नदियों के जल का उपयोग भूमिपूजन में होगा। कुछ दिन पहले केन्द्रीय समिति द्वारा ज्योतिर्लिंग महाकाल और ओंकारेश्वर का मिट्टी तथा शिप्रा का जल भेजने के लिए कहा गया था। हमने सोमवार को दोनों मंदिरों की मिट्टी और जल एकत्र कर अयोध्या भेज दिया है। हिन्दुस्थान समाचार-hindusthansamachar.in