arunachal-pradesh-35th-foundation-day-celebrated-with-gaiety
arunachal-pradesh-35th-foundation-day-celebrated-with-gaiety
देश

उल्लास के साथ मनाया गया अरुणाचल प्रदेश 35वां स्थापना दिवस

news

इटानगर, 20 फरवरी (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश का 35वां राज्य स्थपना दिवस शनिवार को बहुत उल्लास, उत्साह और रंगारग पारंपरिक कार्यक्रमों के साथ मनाया जा रहा है। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ बीडी मिश्रा मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए और राज्य के लोगों को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दीं। राज्यपाल डॉ मिश्रा ने कहा कि जबसे देश में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं तब से अरुणाचल प्रदेश का विकास तेजी से हो रहा है। लेकिन, पिछले वर्ष कोविड-19 महामारी के चलते विकास की रफ्तार थोड़ी धीमी हो गयी है। यह स्थिति सिर्फ हमारे राज्य की नहीं बल्कि पूरे विश्व में इसका असर पड़ा है। उन्होंने कहा कि बाकी क्षेत्रों की तुलना में अरुणाचल प्रदेश कोरोना महामारी से काफी हद तक निपटने में कामयाब हुआ है। हमें अपने राज्य की विकास रफ्तार को आगे बढ़ाना है। इसके लिए सरकार को राज्य के लोगों की सहायता और सहयोग की जरुरत है। राज्यपाल ने कहाकि अरुणाचल प्रदेश में संसाधनों और क्षमता की कमी नहीं है। अगर हम इसका सही इस्तेमाल करें तो राज्य का विकास की नई ऊंचाइयों को छू सकता है। राज्य के युवाओं को नौकरी करने के लिए नहीं नौकरी देने वाला बनने की मानसिकता के साथ आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने किसानों से अपनी खेती में आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल करने पर ध्यान देने का आह्वान किया। वर्तमान राज्य सरकार शिक्षा पर ध्यान केंद्रित कर रही है। क्योंकि, राज्य की शिक्षा प्रणाली को सुधारना है। शिक्षा प्रणाली ठीक हो जाने पर राज्य में कई चीजें ठीक हो जाएंगी। उन्होंने राज्य के कुछ इलाकों में बंदूक और ड्रग्स के चलन पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इन सबसे केवल राज्य और लोगों का नुकसना होता है। बंदूक संस्कृति से कभी किसी का भला नहीं हो सकता है। उन्होंने उन लोगों को इस मानसिकता से बाहर आने का आह्वान किया। मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने अपने संबोधन में लोगों को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए राज्य के विकास के लिए सहयोग करने वाले लोगों को याद किया। उन्होंने राज्यवासियों से अपनी संस्कृतिक, परंपरा को बचाये रखने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति हमारी पहचान है। हमें विकस के रास्ते पर चलना चाहिए, लेकिन अपने पूर्वजों की संस्कृति और परंपरा को बचाते हुए विकास करना है। उन्होंने कहा कि राज्य में सड़क, रेलवे, हवाई और डिजिटल संपर्क के विकास कार्य तेजी से चल रहे हैं। इन सबके बिना विकास अधूरा है। राज्य की पनबिजली संसाधनों के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत जल्द वेस्ट कामेंग जिला में बन रही 600 मेगावट जल विद्युत परियोजना का उद्घाटन किया जाएगा। राज्य की शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के बारे में खांडू ने कहा कि अगले एक वर्ष के दौरान राज्य में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी सुधार देखने को मिलेगा। राज्य सरकार शिक्षा क्षेत्र को सुधारने पर पूरा ध्यान दे रही है। राज्य की जनजातीय संस्कृति और अरुणाचल प्रदेश के इतिहास को भी राज्य के प्राथमिक और उच्च शिक्षा में शामिल करने का निर्देश गया है। राज्य के लोगों को सरकार का सहयोग करने का अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा कि लोगों को राज्य के विकास में प्रथमिकता देनी है। इस अवसर पर राज्यपाल ने 10 एंबुलेंस को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। कार्यक्रम में मंत्री, विधायक, सरकारी पदाधिकारी, गण्यमान्य लोगों के साथ ही काफी संख्या में अन्य लोग भी मौजूद थे। स्कूली विद्यार्थियों ने इस दौरान रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। हिन्दुस्थान समाचार /तागू/ अरविंद/रामानुज