राजस्थान में सामाजिक और चिकित्सा मोचरें पर कोविड से लड़ने में मदद कर रही सेना

 राजस्थान में सामाजिक और चिकित्सा मोचरें पर कोविड से लड़ने में मदद कर रही सेना
army-helping-to-fight-kovid-on-social-and-medical-fronts-in-rajasthan

जयपुर, 22 मई (आईएएनएस)। भारतीय सेना रेगिस्तानी राज्य में अ²श्य दुश्मन कोविड-19 के खिलाफ युद्ध में सबसे आगे खड़ी रही है और चिकित्सा और सामाजिक मोचरें पर एक बड़ा समर्थन दे रही है। सेना ने हाल ही में श्री गंगानगर में 50 बिस्तरों वाला अस्पताल स्थापित किया है, बाड़मेर में लोक कलाकारों को सूखा राशन किट वितरित की गई है। इसके अलावा एक डिफेंस ऑनलाइन ओपीडी चलाई जा रही है, जिसे हाल ही में राजस्थान में लॉन्च किया गया है। राजस्थान में वर्तमान में 1.31 लाख से अधिक सक्रिय कोविड मामले हैं और अभी तक यहां संक्रमण की वजह से कुल 7,475 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। भारतीय सेना के सुदर्शन चक्र डिवीजन ने हाल ही में श्री गंगानगर में 50 बिस्तरों वाले अस्पताल का विस्तार किया है, जो जिले में कोविड-19 मामलों में तेजी से वृद्धि का मुकाबला करने के लिए नागरिकों को समर्पित है। लेवल 2 की कोविड-19 सुविधा श्री गंगानगर और आसपास के क्षेत्रों के नागरिकों को ऑक्सीजन सहित कोविड संबंधी देखभाल प्रदान करती है। राजस्थान में पीआरओ डिफेंस लेफ्टिनेंट कर्नल अमिताभ शर्मा ने कहा कि भारतीय सेना के डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ ने रिकॉर्ड समय में जिला अधिकारियों और जन सेवा अस्पताल की सहायता से इस कोविड सुविधा की स्थापना की है। भारतीय सेना महामारी से लड़ने के लिए समर्पित चिकित्सा कर्मचारी और उपकरण भी उपलब्ध करा रही है। सेना की ओर से मरीजों के लिए एम्बुलेंस सेवा भी मुहैया कराई गई है। लेफ्टिनेंट कर्नल शर्मा ने कहा कि इस सुविधा के लिए लोगों की भर्ती जिला चिकित्सा प्रशासन और जन सेवा अस्पताल द्वारा समन्वित रूप से की जाएगी। इस सुविधा का उद्घाटन शुक्रवार को श्रीगंगानगर के डीएम जाकिर हुसैन द्वारा किया गया और भारतीय सेना ने राज्य को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए हर संभव सहायता का आश्वासन दिया है। इसी तरह, जोधपुर स्थित सेना की दक्षिणी कमान मुख्यालय कोणार्क कोर बाड़मेर में लोक कलाकारों को सूखा राशन किट प्रदान कर रही है। कोणार्क कोर की ओर से जलिपा मिल स्टेशन ने लोक कलाकारों के समूह को सहायता प्रदान की और गुरुवार को बाड़मेर की श्यो तहसील के गांव नीमला के 25 परिवारों को राशन और कोविड निवारक देखभाल सामग्री प्रदान की। प्रत्येक परिवार को मास्क और सैनिटाइजर के साथ आटा, चावल, खाना पकाने का तेल, दाल और चीनी युक्त 25-30 किलोग्राम सूखा राशन किट प्रदान की गई। बाड़मेर में लोक कलाकारों को कोविड के कारण कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि आजीविका कमाने में मदद करने के लिए उनका कोई कार्यक्रम नहीं हो पा रहा है। ऐसे में इन कलाकारों के एक एनजीओ प्रगति लोक कल्याण विकास संस्थान ने हर संभव सहायता के लिए कोणार्क कोर से संपर्क किया। समूह ने वर्ष 2020 में भी कोविड-19 महामारी की पहली लहर के दौरान सहायता प्रदान की थी। साथ ही राजस्थान में डिफेंस ऑनलाइन ओपीडी शुरू की गई है। लेफ्टिनेंट कर्नल शर्मा ने कहा कि दूरदराज के इलाकों में रहने वाले नागरिक संजीवनी ओपीडी डॉट इन पर लॉग इन कर सकते हैं, जो सभी के लिए खुला है और अनुभवी एएफएमएस डॉक्टरों से ऑनलाइन परामर्श लेकर लाभ उठा सकते हैं। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.