ग्वालियर में अटल बिहारी की याद को संजोने वाले स्मारक के लिए न्यास के गठन को मंजूरी

 ग्वालियर में अटल बिहारी की याद को संजोने वाले स्मारक के लिए न्यास के गठन को मंजूरी
approval-for-the-formation-of-a-trust-for-the-memorial-of-atal-bihari-in-gwalior

भोपाल, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का मध्य प्रदेश के ग्वालियर से गहरा नाता रहा है, राज्य की सरकार इसीलिए यहां अटल बिहारी वाजपेयी स्मारक बनाने जा रही है। इसके लिए राज्य सरकार ने स्मारक के निर्माण और संस्कृति विभाग के आधीन स्वायत्त अटल बिहारी वाजपेयी स्मारक न्यास के गठन के लिये स्वीकृति दी गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान की अध्यक्षता में हुई मंत्रि-परिषद की वर्चुअल बैठक में स्मारक न्यास के गठन को मंजूरी दी गई। इस स्मारक का मकसद अटल बिहारी के कृतित्व और व्यक्तित्व से नई पीढ़ी को अवगत कराना है। बताया गया है कि स्मारक न्यास के माध्यम से युवाओं और नौनिहालों में राष्ट्र निर्माण एवं राष्ट्र विकास के प्रति संवेदनशीलता तथा जागरुकता का प्रचार-प्रसार करने के लिये आवश्यक प्रयास किया जाएगा। वाजपेयी की भव्य प्रतिमा एवं दृश्य-श्रव्य माध्यमों से उनके जीवन चरित्र का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। सरकार की योजना के अनुसार प्रतिमा स्थल के आसपास सुव्यवस्थित जन-सुविधाएँ विकसित की जाएंगी। साथ ही उनके जीवन दर्शन से संबंधित गतिविधियों के संचालन के लिये कार्यशाला, सेमिनार, शोध, संगोष्ठी, व्याख्यान इत्यादि का आयोजन किया जाएगा। स्मारक परिसर में वाजपेयी एवं उनके जीवन दर्शन से संबंधित साहित्य का प्रकाशन एवं पुस्तकों की लायब्रेरी और ई-लायब्रेरी, सुशासन एवं नीति निर्माण हेतु अध्ययन केन्द्र की स्थापना पर्यटन की दृष्टि से परिसर में वाटर बॉडी, कैंटीन, पार्क आदि का विकास किया जाएगा। राष्ट्र निर्माण एवं राष्ट्र विकास के प्रति संवेदनशीलता तथा जागरूकता का प्रचार-प्रसार करने के लिए फिल्मों का संग्रहण, द़श्य श्रव्य-मल्टीमीडिया, संग्रहालय, मुक्ताकाश मंच एवं ऑडिटोरियम आदि सुविधाओं का सृजन, उनकी बौद्धिक प्रखरता, साहित्यिक दृष्टिकोण और विशेष रूप से संसद में सशक्त उपस्थिति को प्रमुख आयाम के रूप में प्रदर्शित किया जायेगा। न्यास के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए भारत सरकार, राज्य सरकार, गैर शासकीय संस्थाओं, संगठनों, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के निकाय तथा व्यक्तियों से सम्पर्क समन्वय तथा सहयोग स्थापित कर क्रियान्वयन किया जायेगा। --आईएएनएस एसएनपी/एसकेके

अन्य खबरें

No stories found.