केंद्र में सहयोगी अकाली दल  द्वारा तेल कीमतों को लेकर केंद्र के विरुद्ध 7 जुलाई को रोष प्रदर्शन
केंद्र में सहयोगी अकाली दल द्वारा तेल कीमतों को लेकर केंद्र के विरुद्ध 7 जुलाई को रोष प्रदर्शन
देश

केंद्र में सहयोगी अकाली दल द्वारा तेल कीमतों को लेकर केंद्र के विरुद्ध 7 जुलाई को रोष प्रदर्शन

news

चंडीगढ, 29जून ( हि स )। केंद्र में मोदी सरकार की सहयोगी पार्टी अकाली दल ने भी अब केंद्र सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन का फैसला किया है। अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने घोषणा की है कि पार्टी पेट्रोल तथा डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के खिलाफ तथा पंजाब सरकार द्वारा गरीबों के नीले कार्ड लाखों की गिनती में राजनीतिक भेदभाव के तहत् काटने के खिलाफ पंजाब भर में 7 जुलाई को सुबह 10 बजे से 11 बजे तक रोष प्रकट किए जाएंगे। आज पार्टी के मुख्य कार्यालय से इस बारे में जानकारी देते हुए पार्टी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष तथा प्रवक्ता डॉ. दलजीत सिंह चीमा ने बताया कि रोष प्रदर्शनों द्वारा केंद्र तथा पंजाब सरकार को डीजल तथा पेट्रोल की कीमतों पर अपने अपने टैक्स वापिस लेने के लिए कहा जाएगा। डॉ. चीमा ने कहा कि केंद्र तथा पंजाब सरकार के टैक्सों के कारण उपभोक्ताओं तक पहुंचते पहुुंचते पेट्रोल तथा डीजल की कीमतें दोगुनी हो जाती हैं। उन्होने कहा कि उदाहरण के तौर पर इंडियन ऑयल कारपोरेशन द्वारा जो डीजल वैट तथा एक्साइज टैक्स पर बिना पेट्रोल पंप डीलरों को दिया जाता है उसकी कीमत 39.21 रूपए है, पर उपभोक्ताओं तक पहुंचते- पहुंचते वैट तथा एक्साइज टैक्स लगने से इसकी कीमत 80 रूपए तक पहुंच जाती है। उन्होने कहा कि इस समय पंजाब सरकार द्वारा पेट्रोल पर 35.12 फीसदी, हरियाणा सरकार द्वारा 20.25 फीसदी तथा हिमाचल सरकार द्वारा 24.43 फीसदी वैट लगाया जाता है। जबकि केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ द्वारा यह सिर्फ 19.76 फीसदी है। उन्होने कहा कि इससे स्पष्ट होता है कि चंडीगढ़ से पेट्रोल पर 16 फीसदी अतिरिक्त वैट लगाया जा रहा है। उन्होने कहा कि इसी तरह डीजल पर पंजाब सरकार द्वारा 13.74 फीसदी, दिल्ली सरकार द्वारा 30 फीसदी, हरियाणा सरकार द्वारा 17.22 फीसदी तथा हिमाचल सरकार द्वारा 14.38फीसदी वैट लगाया जा रहा है। उन्होने हैरानी प्रकट की कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार द्वारा लगाए जा रहे भारी वैट के कारण इतिहास में पहली बार दिल्ली में डीजल पेट्रोल से ज्यादा मंहगा हो गया है। डॉ. चीमा ने आगे कहा कि तेल की कीमतों के साथ-साथ पंजाब की कांग्रेस सरकार ने लाखों की गिनती में गरीब लोगों के नीले कार्ड काटकर उनके साथ बहुत बड़ा धोखा किया है। इन रोष मुजाहरों में गरीब जरूरतमंद परिवारों की आवाज बुलंद करके पंजाब सरकार को इन नीले कार्ड दोबारा बहाल करने के लिए मजबूर किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार / नरेंद्र जग्गा-hindusthansamachar.in