all-three-new-agricultural-laws-of-indian-government-are-beneficial-to-farmers-narendra-singh-tomar
all-three-new-agricultural-laws-of-indian-government-are-beneficial-to-farmers-narendra-singh-tomar
देश

भारत सरकार के तीनों नए कृषि कानून कृषक हितकारी : नरेंद्र सिंह तोमर

news

बांदा, 21 फरवरी (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में क्षेत्रीय किसान मेला के आज दूसरे दिन यहां काफी गहमागहमी रही। प्रथम सत्र के मुख्य अतिथि केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार नरेंद्र सिंह तोमर रहे। उन्होंने ऑनलाइन संबोधन में किसानों से कहा कि भारत सरकार द्वारा लाए गए तीनों नए कृषि कानून कृषक हितकारी हैं। केंद्र की मोदी सरकार तथा प्रदेश की योगी सरकार इस कानून के माध्यम से कृषकों को और सुदृढ़ करना चाहती है। केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में नवाचार वैज्ञानिकों के द्वारा किया जाना प्रमुख कार्य है। क्षेत्र अनुकूल नवाचार समय की मांग है आज चर्चा इस बात की आवश्यक है कि कृषकों की आय एवं उनके रहन-सहन को कैसे बढ़ाया जाए। इस कार्य के लिये कृषि एवं कृषि से जुड़े हुए सभी संस्थान एवं विभाग काम कर रहे हैं। जिस तरह से झांसी की महिला कृषक ने कम क्षेत्र में ही बहुत अधिक मुनाफा कमाया, हमें इससे प्रेरणा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का यह संकल्प है कि 2022 तक कृषकों की आय दुगनी हो। क्षेत्रीय किसान मेला का आयोजन बुंदेलखंड बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में हुआ। उन्होंने कहाकि यह बुंदेलखंड वासियों के लिए सुखद क्षण है। कृषि एवं किसानों की दशा सुधारने हेतु किए जाने वाले कार्यों में किसानों की ऋण माफी, उर्वरकों एवं बीजों का समय पर वितरण, वैज्ञानिक सलाह एवं कृषि उत्पाद के वितरण हेतु उपलब्ध बाजार उत्पाद के उचित मूल्य प्राप्त करने के लिए किए जा रहे प्रयास को प्रमुख कारण बताया। उन्होंने यह भी कहा कि आज किसानों को सिर्फ बाजार की नहीं बल्कि तकनीक के इस युग में ई बाजार बाजार भी उपलब्ध है। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में ऑनलाइन जुड़े मंत्री कृषि सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि बुंदेलखंड के कृषि विकास में कृषि विश्वविद्यालय तत्परता से लगा हुआ है।यह विशाल किसान मेला का आयोजन एक महत्वपूर्ण कड़ी साबित हो सकती है। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में ऑनलाइन जुड़े प्रबंध परिषद के सदस्य अभय महाजन ने कहा कि यह विश्वविद्यालय को बुंदेलखंड की कृषि के लिए वरदान साबित होगा।कृषि मेले के दूसरे सत्र में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे ग्राम विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला में कहा कि वर्तमान में देश एवं कृषि विकास के लिए तकनीकी ताकत को आधार बनाना होगा। इसी तरह लोक निर्माण मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ,सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ,विधायक हमीरपुर युवराज सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किए। लोक निर्माण मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने कहा कि विश्वविद्यालय का निरंतर प्रयास है कि जलवायु के अनुकूल तकनीकी युग को सुविधा पूर्वक किसानों तक पहुंचाएं।उन्होंने लोगों से दलहन की फसल को उगाने हेतु प्रोत्साहित किया। सदर विधायक ने इस आयोजन के लिए कुलपति का आभार प्रकट किया और कहा कि इस तरह के आयोजन से यहां के किसान एवं जनता लाभान्वित होगी। जिला अधिकारी ने अपने संबोधन में कृषकों एवं उपस्थित जन को अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए कहा, साथ ही उन्होंने विश्वविद्यालय को हर संभव मदद के लिए अपने संकल्प को दोहराया। कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि राज्यमंत्री ग्राम विकास एवं संसदीय आनंद स्वरूप शुक्ला ने स्वयं सहायता समूह को गाड़ियों की चाबी सौंपी। कार्यक्रम का नेतृत्व एनआरएलएम के उपायुक्त के करुणाकरण पांडे कर रहे थे। इस अवसर पर मेले के आयोजन सचिव डॉ नरेंद्र सिंह तथा कार्यक्रम का संचालन सहायक प्राध्यापक डॉ बीके गुप्ता ने किया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/रामानुज