अहमदाबाद : अस्पताल में मरीजों की सेवा से लेकर श्मशान पर भी सहयोग कर रहे हैं स्वयंसेवक

अहमदाबाद : अस्पताल में मरीजों की सेवा से लेकर श्मशान पर भी सहयोग कर रहे हैं स्वयंसेवक
ahmedabad-volunteers-are-collaborating-on-cremation-to-serve-patients-in-the-hospital

सिविल अस्पताल में 180 और सोला सिविल अस्पताल में सेवा कर्तव्य निभा रहे 45 स्वयंसेवक अहमदाबाद, 27 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना संकट में भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता अपने जीवन की परवाह किए बिना समाज के लिए सब कुछ करने के लिए तैयार हैं। ऐसे में 180 संघ कार्यकर्ता पिछले कई दिन से स्वेच्छा से अहमदाबाद के सिविल में चिकित्सा कर्मचारियों के साथ कोरोना मरीजों की देखभाल में लगे हैं। शुक्रवार से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के 30 वर्ष से कम आयु के 180 युवा स्वयंसेवक सिविल अस्पताल और 45 स्वयंसेवक सोला सिविल अस्पताल में कोरोना मरीजों की सेवा में लगे हैं। यह स्वयंसेवक तीन शिफ्टों में 1200 बिस्तरों की विभिन्न पारियों में निरंतर सहायता कार्य कर रहे है। यह स्वयंसेवक मरीज के लिए हेल्प डेस्क, अस्पताल का कंट्रोल रूम, मरीज के डिस्चार्ज एरिया, डेड बॉडी डिस्पोजल एरिया में कार्य कर रहे हैं। इसके अलावा मरीज के परिजनों को एंबुलेंस और पानी आदि पहुंचा रहे हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक अहमदाबाद के अलावा वडोदरा के एसएसजी अस्पताल, सूरत सिविल अस्पताल और साथ में श्मशान पर कोविड मृतदेह को अग्निसंस्कार कराने में भी सहयोग कर रहे हैं। भुज में श्मशान पर कोविड मृतदेह को अग्निसंस्कार कार्य में सेविका समिति की बहनें भी सहयोग कर रही हैं। डॉ. हितेंद्र देसाई ने बताया कि संघ के स्वयंसेवकों के आने से कोविड अस्पताल के चिकित्सा कर्मचारियों को इस गैर-चिकित्सा कार्य से मुक्त किया गया, जिससे वे रोगियों की सेवा के लिए और अधिक समय दे सकेंगे। उन्होंने बताया कि कुल 3 शिफ्टों में 60-60 के समूह में कुल 180 स्वयंसेवक काम मे लगे हुए हैं। शुक्रवार से कार्य में लगे 180 स्वयंसेवक 15 दिन तक सेवा करेंगे इसके बाद अगले 15 दिन के अन्य स्वयंसेवक आएंगे, जिनका प्रशिक्षण अभी चल रहा है। जब तक कोरोना की स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रण में नहीं लाया जाता, तब तक आरएसएस के स्वयंसेवकों में से एक के बाद एक बैच इस तरह पहुंच जाएगा। अब तक 500 से ज्यादा स्वयंसेवक कोविड अस्पताल मे सेवा कार्य के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अहमदबाद पूर्व और पश्चिम के अन्य स्वयंसेवक इस्कॉन संचालित अक्षयपात्र संस्थान द्वारा मरीज के परिजनों के लिए सुबह-शाम 300-300 भोजन के फूड पैकेट का वितरण कर रहे है। इस कार्य में भी हर रोज 50 से ज्यादा स्वयंसेवक लगे हैं। संघ के कार्यकर्ता तेजस पटेल ने बताया कि कोरोना संकट में सिविल अस्पताल के मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ के काम का बोझ कम करने के इरादे से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सहयोग कर रहा है। सिविल अस्पताल अधीक्षक डॉ. जेवी मोदी और बीजे मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. प्रणय शाह ने कहा कि अस्पताल में स्वयंसेवकों के काम करने के प्रस्ताव को स्वीकार किया है। हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष शाह